ताज़ा खबर
 

जानिए क्यों नहीं खाने चाहिए जले हुए ब्रेड, पहुंचा सकती है ऐसे नुकसान

जले हुए ब्रेड का सेवन कई स्वास्थ्य समस्याओं के खतरे को बढ़ाता है। इसलिए यदि आप भी जले हुए ब्रेड का सेवन करते हैं तो सतर्क हो जाइए क्योंकि आपकी यह गलती आपको कई जोखिम में डाल सकती है।

Author December 20, 2018 1:38 PM
जले हुए ब्रेड का सेवन ना करने के कारण

स्वस्थ और हेल्दी रहने लिए एक स्वस्थ जीवनशैली और स्वस्थ आहार का होना बेहद जरूरी होता है। लेकिन आजकल लोग जंक फूड्स और तैलीय खाद्य पदार्थो का अधिक सेवन करते हैं। बहुत से लोग ब्रेड का सेवन करते हैं और खासतौर पर वो लोग जो घर से बाहर रहते हैं। लेकिन उनलोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि ब्रेड का जला हिस्सा खाना उनके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकता है। जल्दबाजी में लोग ब्रेड के जले हुए हिस्सों तक का सेवन कर लेते हैं। आइए जानते हैं जले ब्रेड का सेवन करने से स्वास्थ्य को क्या हानि पहुंचता है।

इस मुद्दे का मूल
एक शोध के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि जिन स्टार्च युक्त खाद्य पदार्थो को उच्च तापमान पर पकाया जाता है तो वे ‘एक्रिलामाइड’ नामक एक यौगिक को छोड़ देता है जो आपको कैंसर के जोखिम में डाल सकता है।

एक्रिलामाइड क्या होता है
यह एक केमिकल होता है जिसे अक्सर कागज और प्लास्टिक के निर्माण में उपयोग किया जाता है। इसे कुछ पैक खाद्य पदार्थों में भी प्रयोग किया जाता है। एक डच अध्ययन के अनुसार, जब कुछ खाद्य पदार्थों को बहुत उच्च तापमान पर पकाया जाता है, तो रासायनिक प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप एक्रिलमाइड के गठन होता है।

वास्तव में क्या होता है?
एक बार प्रतिक्रिया होने के बाद, जला हुआ भोजन रसायन डीएनए में प्रवेश कर सकता है जो आगे जीवित कोशिकाओं को बदल देता है और कैंसर यौगिकों के गठन का कारण बन सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, एक्रिलामाइड शरीर में एक न्यूरोटॉक्सिन के रूप में भी कार्य कर सकता है। न्यूरोटॉक्सिन विषाक्त पदार्थों को संदर्भित करता है जो तंत्रिका ऊतक को आंशिक रूप से या पूरी तरह से नष्ट कर देता है।

इसका निवारण क्या है
आलू और ब्रेड जैसे खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना या सीमित करना आसान तरीका है। यदि आप उन्हें उपेक्षा नहीं कर सकते हैं, तो एक्रिलमाइड एक्सपोजर को कम करने के लिए खाना पकाने के समय को कम करने का प्रयास करें। आप इन्हें हल्के आंच पर पकाएं, इससे यह जलेगा नहीं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App