ताज़ा खबर
 

जानिए, दांत निकलने के दौरान बच्चों को क्यों होते हैं उलटी-दस्त और रोकथाम के उपाय

दांत निकलने से पहले ही बच्चों में उसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। रात के समय बच्चों का अधिक रोना, दूध न पीना, चबाना, लार टपकाना, चिड़चिड़ापन, सोने में परेशानी, भूख का ना लगना और सूजे हुए मसूड़े भी दांत निकलने के लक्षण हो सकते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

छोटे बच्चों को दांत निकलना आम बात है लेकिन दांत निकलने के दौरान छोटी-छोटी बातों का खास ख्याल रखना जरूरी होता है। क्योंकि छोटे बच्चों को दांत निकलने के दौरान कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं। दांत निकलने से पहले ही बच्चों में उसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। रात के समय बच्चों का अधिक रोना, दूध न पीना, चबाना, लार टपकाना, चिड़चिड़ापन, सोने में परेशानी, भूख का ना लगना और सूजे हुए मसूड़े भी दांत निकलने के लक्षण हो सकते हैं। इसके अलावा दांत निकलने से पहले कई बच्चों को कई तरह की परेशानियां भी हो सकती हैं, जैसे उलटी लगना, दस्त लगना और बुखार आना। यह बच्चों की सेहत के लिए तो हानिकारक है ही साथ ही मां-बाप की चिंता का कारण भी बनते हैं। आइए आज हम आपको बताते हैं आखिर दांत निकलने के दौरान बच्चों को उलटी-दस्त क्यों होते हैं और इससे बचने के लिए क्या उपाय करने चाहिए।

बच्चों को दांत निकलने के दौरान दस्त क्यों लगते हैं? : दांत निकलने के दौरान बच्चों के दस्त या उलटी वजह उनके मसूड़े हो सकते हैं। दरअसल, दांत निकलते वक्त बच्चों के मसूड़ों की त्वचा बेहद संवेदनशील होती है। इसलिए बच्चा अपने आस-पास की चीजों को मुंह में डालने की कोशिश करता है। ऐसा करने से बैक्टीरिया या वायरस बच्चों के मुंह से पेट में चले जाते हैं और बच्चों को उल्टी, दस्त की शिकायत हो जाती है। इसके अलावा जिन बच्चों की अधिक लार निकलती है, उन्हें भी उलटी और दस्त की शिकायत हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह और इलाज बेहद जरूरी होता है।

दांत निकलने के दौरान उलटी-दस्त होने पर अपनाएं ये उपाय –

– उलटी और दस्त की वजह से बच्चों में पानी की कमी हो सकती है और कमजोरी आ सकती है। इसलिए बच्चे को ओआरएस का घोल या चीनी और नमक का घोल बनाकर पिलाते रहना चाहिए।

– दांत निकलने के दौरान बच्चे को भूख लगना कम हो सकती है, इसलिए मां को थोड़ी-थोड़ी देर अपना दूध पिलाना चाहिए। इससे बच्चे के शरीर में पानी की कमी नहीं होगी।

– जो बच्चे ठोस भोजन कर सकते हैं, उन्हें केला और सूप भी दे सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे ये चीजें थोड़ी-थोड़ी देर बाद देनी है। बच्चे को एक साथ ज्यादा भोजन न दें और हरे रंग की सब्जियां न दें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पेट, कान और आंखों के लिए रामबाण है गिलोय, इन बीमारियों में मिलेगी राहत
2 फलों से फिटनेस दुरुस्त रखती हैं एक्ट्रेस पूजा भट्ट, जानिए गर्मियों फिट रहने के लिए किन फलों का सेवन है फायदेमंद
3 डायबिटीज रोगियों के लिए बेस्ट है मसाला चाय, शुगर लेवल रखता है कम, और भी होते हैं फायदे
यह पढ़ा क्या?
X