ताज़ा खबर
 

Uric Acid: यूरिक एसिड के मरीज रखें इन बातों का ध्यान, नहीं होगी परेशानी

Uric Acid Diet, Symptoms, Cause, Treatment, Test: यूरिक एसिड के लोगों को कई चीजों का ध्यान रखने की जरूरत होती है, वरना उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जानिए नेचुरल तरीकों से कैसे इसे कंट्रोल किया जा सकता है।

Uric Acid, Uric Acid Diet, uric acid symptoms, uric acid patient, uric acid test, uric acid pain, uric acid levels, uric acid patient food, uric acid range, uric acid causes, uric acid level chart, uric acid treatment, effects of high uric acid, uric acid test costUric Acid: यूरिक एसिड वाले रखें इन बातों का खास ध्यान

Uric Acid Diet, Cause, Symptoms, Remedy: गाउट एक प्रकार का गठिया है जो तब विकसित होता है जब ब्लड में यूरिक एसिड का लेवल असामान्य रूप से अधिक हो जाता है। यूरिक एसिड जोड़ों में क्रिस्टल बनाता है जो अक्सर पैरों और पैरों की अंगुलियों में गंभीर और दर्दनाक सूजन का कारण बनता है। कुछ लोगों को गाउट के इलाज के लिए दवा की आवश्यकता होती है, लेकिन डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव से भी मदद मिल सकती है। यूरिक एसिड को कम करने से गाउट के जोखिम को कम किया जा सकता है। आइए जानते हैं किन चीजों का ध्यान रखना आपके यूरिक एसिड के लेवल को कंट्रोल कर के रख सकता है।

प्यूरिन वाले फूड्स को सीमित करें: प्यूरीन कंपाउंड होते हैं जो कुछ फूड्स में स्वाभाविक रूप से मौजूद होते हैं। जैसा कि शरीर प्यूरीन को तोड़ता है, यह यूरिक एसिड पैदा करता है। प्यूरिन वाले फूड्स के मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया से शरीर में बहुत अधिक यूरिक एसिड उत्पन्न हो सकता है। कुछ फूड्स जो प्यूरीन में अधिक होते हैं, अन्यथा स्वास्थ्यप्रद होते हैं, इसलिए लक्ष्य यह होना चाहिए कि वे प्यूरीन का सेवन कम करें, बल्कि पूरी तरह से बचें।

वजन कंट्रोल रखें: यूरिक एसिड वाले मरीजों को वजन कंट्रोल रखने की जरूर होती है। मोटापा गाउट के जोखिम को बढ़ाता है, खासकर कम उम्र के लोगों में। अधिक वजन होने से एक व्यक्ति में मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम का खतरा भी बढ़ जाता है। यह हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाते हुए ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को भी बढ़ा सकता है।

कॉफी पिएं: कुछ शोध के अनुसार कॉफी पीने वाले लोगों में गाउट विकसित होने की संभावना कम होती है। उदाहरण के लिए, नर्स हेल्थ स्टडी प्रतिभागियों के डेटा के 2010 के विश्लेषण में पाया गया कि कॉफी पीने से गाउट का खतरा कम हो सकता है। जो महिलाओं रोजाना 1 से 3 कप कॉफी पीती है, उनमें कॉफी ना पीने वालों की तुलना में गाउट के जोखिम में 22% की कमी देखी गई है।

चेरी खाएं: प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि चेरी गाउट के जोखिम को कम कर सकता है। गाउट वाले 633 लोगों के 2012 के एक अध्ययन में पाया गया कि 2 दिनों के लिए चेरी खाने वालों में गाउट का खतरा 35% कम होता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Uric Acid: यूरिक एसिड वाले अपनी डाइट में इन फूड्स को जरूर करें शामिल, मिलेंगे लाभ
2 Coronavirus In India: 21 देशों में फैला कोरोना वायरस, WHO ने घोषित किया ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी
3 कोरोना वायरस पर होम्योपैथी दवा की एडवाइजरी जारी करने पर ट्रोल हुई मोदी सरकार