ताज़ा खबर
 

डायबिटीज रोगियों और गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक होता है बेल का रस, जानिए क्यों

तमाम फायदों के बावजूद बेल का रस कुछ लोगों के लिए परहेज करने योग्य होता है।

बेल का रस किशोरों के लिए बेहद फायदेमंद होता है लेकिन अगर आपकी उम्र तीस साल से ज्यादा है तो आपको बेल के रस का सेवन करने से परहेज करना चाहिए।

बेल एक जड़ी-बूटी की तरह है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। इसका फल, पत्तियां और जूस तीनों सेहत के लिए बेहद लाभकारी होते हैं। बेल में टैनिन, कैल्शियम, फॉस्फोरस, फाइबर, प्रोटीन, आयरन आदि मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। बेल का फल काफी लंबे जीवनकाल वाला फल है। मतलब कि इसे पेड़ से तोड़कर कई दिनों तक रखा जा सकता है। कई दवाइयां बनाने के अलावा इससे कई तरह के व्यंजन भी बनाए जा सकते हैं। गर्मियों में बेल का रस पीने वालों की काफी संख्या है। तमाम फायदों के बावजूद बेल का रस कुछ लोगों के लिए परहेज करने योग्य होता है। किन लोगों के लिए ऐसा होता है आज हम इसी के बारे में आपको बताने वाले हैं।

1. मधुमेह यानी कि डाइबिटीज के मरीजों के लिए बेल का रस सेहतमंद नहीं होता। यह उन्हें नुकसान पहुंचा सकता है। बेल के रस में मौजूद शुगर डायबिटीज के रोगियों के लिए हानिकारक होता है।

2. इसके अलावा ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी बेल का रस सही नहीं होता। हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को गर्मियों में बेल का रस पीने से परहेज करना चाहिए।

3. बेल दवाओं के साथ अभिक्रिया कर आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। डायबिटीज के जो मरीज दवाओं का सेवन करते हैं उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए। या फिर एक्सपर्ट्स के सुपरविजन में ही इसका सेवन करना चाहिए।

4. कई मामलों में बेल का रस पाचन संबंधी दिक्कतें पैदा करता है। कई लोगों में इसे पीने से बाद कब्ज की समस्या भी देखी गई है।

5. गर्भवती महिलाओं को बेल के रस का सेवन करने से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्भावस्था में इसके लाभ के कोई प्रमाण नहीं मिलते। ऐसा माना जाता है कि बेल गर्भपात का कारण हो सकता है।

6. बेल का रस किशोरों के लिए बेहद फायदेमंद होता है लेकिन अगर आपकी उम्र तीस साल से ज्यादा है तो आपको बेल के रस का सेवन करने से परहेज करना चाहिए। अगर इसके बाद भी आपको बेल का रस पीना ही है तो डॉक्टरी परामर्श जरूर लें।

7. ज्यादा मात्रा में बेल खाने या बेल के रस का सेवन करने से पेट दर्द, सूजन, पेट फूलना आदि समस्याएं भी हो सकती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App