ताज़ा खबर
 

कैंसर से बचना चाहते हैं तो किचन में रखीं इन चीजों को जल्द हटाएं

Want to stay safe from cancer: दिल का दौरा पड़ने से लेकर कैंसर होने तक, आपके किचन में ऐसी चीजें हैं जो कई जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकती हैं। ऐसे में आपको इससे जुड़ी बातों की सही जानकारी जरूर होनी चाहिए।

Author Published on: June 14, 2019 5:47 PM
नॉन-स्टिक में खाना बनाना कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है (Source: File Photo)

Cancer prevention: कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें खाना बनाना बेहद पसंद होता है तो कई ऐसे होते हैं जिन्हें खाना खाना पसंद होता है। लेकिन इनमें से कई लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें इस बात की जानकारी नहीं होती है कि उनके किचन में कई ऐसे सामान होते हैं जिसके इस्तेमाल से कैंसर होने की संभावनाएं बढ़ जाती है। ऐसे में आपको इस बात का पता होना जरूरी है कि अपने किचन से किन चीजों को हटाना चाहिए और किन चीजों को रखना चाहिए। दिल का दौरा पड़ने से लेकर कैंसर होने तक, आपकी रसोई में ऐसी चीजें हैं जो कई जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकती हैं।

रिफाइन्ड ऑयल:
ऑयल को रिफाइन करने की प्रक्रिया में बहुत सारे एसिड का उपयोग किया जाता है, जिसे तीखी गंध को दूर करने के लिए हेक्सानॉल नामक एक केमिकल के साथ आगे धोया जाता है। जब किसी चीज को फ्राई करने के लिए प्रोसेस्ड रिफाइंड तेल को गर्म किया जाता है, तो यह ट्रांस फैट को ऑक्सीडाइज और रिलीज करता है, जो शरीर के लिए खतरनाक होता है और इससे हृदय की समस्या और कैंसर हो सकता है।

प्लास्टिक की बोतल:
प्लास्टिक की बोतल के नियमित उपयोग से इम्यूनिटी और हार्मोन प्रभावित होते हैं और मोटापा हो सकता है। प्लास्टिक के कंटेनर में खाना गर्म करने से टॉक्सिंस निकलते हैं जो इंसुलिन को बढ़ाते हैं और फैट सेल्स को रिलीज करते हैं जिसके कारण कैंसर होने की संभावनाएं अधिक बढ़ जाती है।

नॉन-स्टिक कुकवेयर:
उच्च तापमान पर नॉन-स्टिक कुकवेयर का उपयोग धुएं के रूप में PFCs कोटिंग को परेशान करता है जिसके कारण लीवर और डाइजेस्टिव समस्याओं के साथ-साथ कैंसर रोग होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

एल्युमिनियम फॉयल:
डब्ल्यूएचओ के अनुसार, शरीर के लिए 50 मिलीग्राम एल्यूमीनियम सही होता है। शोध कहता है कि फॉयल में पैक किए गए भोजन में लगभग 2-5 मिलीग्राम एल्यूमीनियम होता है। एल्युमीनियम की यह मात्रा शरीर में जिन्क के अवशोषण में बाधा डालती है जो कैंसर होने के खतरे को बढ़ा सकता है।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 निमोनिया के हैं शिकार तो इस्तेमाल करें शहद, ये चीजें भी पहुंचा सकती हैं राहत
2 ग्लूकोमा की समस्या से जा सकती है आंखों की रोशनी, जानिए क्यों होती है ये बीमारी और क्या हैं इसके लक्षण
3 बिहार में AES ने ले ली 43 मासूमों की जान, जानिए क्या है ये बीमारी और कैसे बचें इससे
ये पढ़ा क्‍या!
X