ताज़ा खबर
 

Hypertension/High blood pressure: जान भी जा सकती है हाइपरटेंशन से, नमक नहीं सेंधा नमक खाएं

Hypertension: हाइपरटेंशन एक ऐसी बीमारी है जो आज के समय में किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। ऐसे में आप आयुर्वेद की मदद से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। इसी बारे में बता रहे हैं कुदरती आयुर्वेद के संस्थापक मोहम्मद यूसुफ एन शेख...

high blood pressure, hypertension, sendha namak, ayurvedic tips for high blood pressure, ayurvedic for hypertension, high blood pressure diet, signs of high blood pressure,high blood pressure treatment, foods to avoid with high blood pressure, high blood pressure diet, high blood pressure chart, foods to avoid with high blood pressureहाई ब्लड प्रेशर के लिए आयुर्वेद बेहतर फायदेमंद होता है

Hypertension: Causes, symptoms, and treatments: हाइपरटेंशन एक ऐसा खतरा है जिसमें धीरे-धीरे आपका हार्ट, किडनी व शरीर के अन्य अंग काम करना बंद कर सकते हैं। इसके अलावा हाई बीपी के कारण आंखों पर भी असर पड़ता है। आजकल के समय में इसके शिकार रोगी आसानी से मिल जाते हैं। पर अच्छी बात यह है कि आयुर्वेद की मदद से इसका इलाज संभव है।

हाईपरटेंशन से बचाव करने के लिये या इसका रोगी होने के बाद अपनी भोजनशैली में बदलाव करना बेहद जरूरी है। जंक फूड, अल्कोहल, धूम्रपान आदि से परहेज करते हुए पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार चुकंदर, आंवला, लाल और काला अंगूर, गाजर, पालक, मूली, अदरक, लहसुन, तुलसी के पत्ते, नीम के पत्ते, नींबू का रस, काली मिर्च, दालचीनी, अलसी, इलायची, सौंफ, जीरा, चोकर युक्त आटा, ब्राउन राइस, तिल और चावल की भूसी, पपीते का नियमित सेवन करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है। वहीं हाईपरटेंशन के मरीजों को नमक का सेवन कम से कम करना चाहिए। हाईपरटेंशन के मरीज के लिये सेंधा नमक का सेवन करना बेहतर रहता है। कुदरती आयुर्वेद के संस्थापक मोहम्मद यूसुफ एन शेख, के अनुसार इसका इलाज स्वास्थ्य को और भी कई लाभ प्रदान करता है।

आज तनाव से भरपूर, भागदौड़ भरी आधुनिक जीवनशैली जिसमें जंक फूड का अधिक सेवन या तनाव दूर करने के लिये अल्कोहल, धूम्रपान और अनेक प्रकार का नशा करना आम बात हो गयी है। काम के कारण व्यायाम कर पाने का समय निकालना भी हमारे लिये मुश्किल हो गया है। अनियमित और असंयमित खान-पान के साथ पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थ हमारे भोजन की थाली से दूर हो गये हैं। वहीं मोटापा भी आज बड़ी समस्या बन गया है और यह सब कारण जन्म देते हैं हाईपरटेंशन यानि उच्च रक्तचाप को जिसे साईलेंट किलर भी कहा जाता है।

गंभीर बात यह है कि आज बड़ी संख्या में युवा भी हाईपरटेंशन का शिकार हो रहे हैं। हार्ट अटैक, ब्रेन हैमरेज जैसी समस्याओं का शिकार होने वालों में युवा भी शामिल हैं जो इस बीमारी के बढ़ते दुष्प्रभाव और गंभीरता को दर्शाते हैं। दरअसल आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण लाभकारी जड़ी-बूटियों से किया जाता है जो शरीर पर किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नहीं डालती। आयुर्वेदिक औषधियां न सिर्फ रक्तचाप को नियंत्रण में रखती हैं बल्कि तनाव को दूर करने के साथ हमारे लिवर, किडनी, हार्ट और आंखों की कार्यक्षमता में भी वृद्धि करती हैं।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 World Heart Day 2019 Theme, Slogan, Activities: दिल की बीमारी के लिए ये हैं मुख्य वजह, जानिए एक्सपर्ट की राय
2 World Heart Day 2019: Quotes, Messages, Images, Status, SMS: दिल का मामला है, हेल्दी हर्ट के साथ दूसरों को भी बताएं इसका महत्व, शेयर करें ये मैसेज
3 World Heart Day 2019: 40 से कम वालों में भी हार्टअटैक का खतरा बढ़ा, जानिए कैसे रखें Healthy Heart
ये पढ़ा क्या?
X