scorecardresearch

लंबे समय तक स्ट्रेस में रहने से बढ़ सकता है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा, जानें बचाव के तरीके

Stress Relief: लगातार भागती-दौड़ती इस दुनिया में खुद को साबित करने के लिए लोग लगातार मेहनत करते हैं और कई बार किसी काम को इतना अधिक महत्व देते हुए लोगों को स्ट्रेस महसूस होने लगता है।

how to get rid of stress, how to remove stress, how to get rid of mental pressure
लंबे समय तक स्ट्रेस में रहने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बना रहता है।
How to Get Rid of Stress: दुनियाभर में लोग आज इतनी अधिक व्यस्त है कि उनके पास अपने मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखने का समय नहीं है। लगातार भागती-दौड़ती इस दुनिया में खुद को साबित करने के लिए लोग लगातार मेहनत करते हैं और कई बार किसी काम को इतना अधिक महत्व देते हुए लोगों को स्ट्रेस महसूस होने लगता है।

मानसिक स्वास्थ्य के विशेषज्ञों का यह मानना है कि लंबे समय तक स्ट्रेस में रहने वाले लोगों को सामान्य लोगों के मुकाबले ब्रेन स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। क्योंकि जब कोई व्यक्ति लगातार चिंता में रहते हुए किसी विषय के बारे में सोचता है तो ऐसे में मस्तिष्क में जाने वाले खून का अचानक तेज हो जाता है और कई बार मस्तिष्क के किसी हिस्से में खून पहुंचता ही नहीं है, जिसकी वजह से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा और अधिक बढ़ जाता है। ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि स्ट्रेस से बचाव के तरीकों पर ध्यान दिया जाए।

डाइट में शामिल करें लिक्विड – लिक्विड यानी तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करने से मस्तिष्क में ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में बना रहता है। जिसकी वजह से हमारा दिमाग सही तरह से काम कर पाता है। अगर आपका काम ऐसा है जिसमें आपको लंबे समय तक स्ट्रेस में रहना पड़ता है तो आपको बहुत ज्यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही थोड़े-थोड़े समय के बाद जूस, सूप या शेक आदि पीते रहना चाहिए।

पर्याप्त पोषक तत्वों से भरी थाली – कई लोग स्ट्रेस में रहने के दौरान अपने खाने-पीने पर ध्यान नहीं देते हैं लेकिन जानकारों का मानना है कि जब कोई व्यक्ति स्ट्रेस में समय व्यतीत करता हो तो उसे अपने खाने-पीने पर और अधिक ध्यान देना चाहिए। ताकि उसके शरीर को सभी पोषक तत्व मिल सके और उसका दिमाग ठीक तरह से काम कर सके। कोशिश करें कि आप के लंच और डिनर में हरी सब्जियां, सलाद और कम घी-तेल से बना खाना जरूर शामिल हो।

दोस्तों से करें बातें – जब भी आप स्ट्रेस महसूस करें तो समय निकालकर अपने दोस्तों से बात जरूर करें। कहते हैं कि दोस्ती हर मर्ज की दवा होती है। इसलिए जब कभी भी स्ट्रेस महसूस हो तो अपने पुराने दोस्तों से अपने दिल की बात कहें और कोशिश करें कि उनके साथ बाहर घूमने भी जाएं। इससे आपका दिमाग खुशी महसूस करेगा।

रोजाना करें ध्यान – अगर आपको स्ट्रेस महसूस होता है तो आपको रोजाना ध्यान करना चाहिए। बताया जाता है कि ध्यान करने से हमारे मस्तिष्क के डैमेज कोशिकाएं जुड़ सकती हैं। इसलिए जिन लोगों को अपना ज्यादातर समय ऑफिस वर्क में व्यतीत करना पड़ता है उन्हें नियमित तौर पर ध्यान करना चाहिए।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट