ताज़ा खबर
 

दिल के मरीजों की जान बचा सकता है आपका मोबाइल, जानिए कैसे

उच्च-गुणवत्ता वाले आधुनिक मेडिकेशन रिमाइंडर ऐप दिल से संबंधित बीमारियों के मरीजों में दवा समय पर लेने की प्रवृत्ति बढ़ाते हैं। मेडिकेशन ऐप यों तो लंबे समय से ऑनलाइन उपलब्ध रहे हैं। लेकिन यह पहली बार है जब...

प्रतीकात्मक चित्र

‘हार्ट’ पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन से यह पता चलता है कि उच्च-गुणवत्ता वाले आधुनिक मेडिकेशन रिमाइंडर ऐप दिल से संबंधित बीमारियों के मरीजों में दवा समय पर लेने की प्रवृत्ति बढ़ाते हैं। मेडिकेशन ऐप यों तो लंबे समय से ऑनलाइन उपलब्ध रहे हैं। लेकिन यह पहली बार है जब अनुसंधानकर्ताओं ने दिल के मरीजों पर पड़ने वाले इनके प्रभाव का पता लगाया है। स्मार्टफोन की एप्लिकेशन (ऐप) दिल के मरीजों के लिए जीवनदायी बन सकती है। एक नए अध्ययन में यह पता चला है कि मेडिकेशन रिमाइंडर ऐप मरीजों को समय पर दवा लेना याद दिला सकते हैं।

अध्ययन ‘हार्ट’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। इसमें यह पता चलता है कि उच्च-गुणवत्ता वाले आधुनिक मेडिकेशन रिमाइंडर ऐप दिल से संबंधित बीमारियों के मरीजों में दवा समय पर लेने की प्रवृत्ति बढ़ाते हैं। मेडिकेशन ऐप यों तो लंबे समय से ऑनलाइन उपलब्ध रहे हैं। लेकिन यह पहली बार है जब अनुसंधानकर्ताओं ने दिल के मरीजों पर पड़ने वाले इनके प्रभाव का पता लगाया है, साथ ही यह भी जानने की कोशिश की है कि ये ऐप स्वास्थ्य और मानव व्यवहार के संदर्भ में काम करते हैं या नहीं।

स्टडी में पाया गया कि दिल के मरीजों में धमनी से संबंधित रोग वैश्विक तौर पर मौत का प्रमुख कारण होते हैं और करीब 40 फीसद मरीज समय पर दवा लेने के आदी नहीं होते हैं इसलिए उन्हें दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है। ऑस्ट्रेलिया में सिडनी यूनिवर्सिटी में सहायक प्रोफेसर जूली रेडफर्न ने बताया, धमनी से संबंधित हृदय रोग के मरीज अधिक मात्रा में दवाएं लेने से परेशान हो सकते हैं क्योंकि आमतौर पर उन्हें चार तरह की दवाएं लिखी जाती हैं जिन्हें कभी-कभी दिन में तीन बार लेना पड़ता है। सिडनी यूनिवर्सिटी से कार्ला सैंटो ने बताया, यह उत्साहजनक है कि एक मूलभूत ऐप, जिनमें से कुछ को मुफ्त में प्राप्त किया जा सकता है, वे लोगों की दवा लेने की प्रवृत्ति में सुधार कर सकते हैं और सेहत की जटिलताओं को रोक सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App