हाई ब्लड प्रेशर के मरीज भूलकर भी न करें इन चीजों का सेवन, हो सकती हैं ये स्वास्थ्य समस्याएं

हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को तेज सिरदर्द, छाती में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, कन्फूजन और त्वचा पर लाल रंग के चकत्ते जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं।

High Blood Pressure, Health, Health News
पेशाब में खून आना हो सकता है हाई ब्लड प्रेशर का लक्षण

आज के समय में बढ़ते तनाव, वर्क प्रेशर, आलस्य और फिजिकल एक्टिविटी की कमी के कारण शरीर बीमारियों का घर बनता जा रहा है, ऐसी ही एक स्वास्थ्य समस्या है हाई बल्ड प्रेशर की। बता दें कि जब धमनियों पर खून का दबाव बढ़ जाता है तो इस स्थिति को हाई ब्लड प्रेशर यानी उच्च रक्तचाप कहा जाता है। उच्च रक्तचाप को मेडिकल टर्म में हाइपरटेंशन कहा जाता है। साइलेंट किलर के नाम से मशहूर हाई बीपी के लक्षण शुरुआत में नजर नहीं आते, ऐसे में इस स्वास्थ्य समस्या के लक्षणों का पता लगाना बेहद ही जरूरी है।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण: हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को तेज सिरदर्द, छाती में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, कन्फूजन और त्वचा पर लाल रंग के चकत्ते जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। हालांकि गंभीर स्थिति में रक्तचाप के बढ़ने से हार्ट अटैक, ब्रेन स्ट्रोक और मल्टीपल ऑर्गन फेलियर जैसी जानलेवा स्थिति का खतरा भी पैदा हो जाता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स उच्च रक्तचाप के रोगियों को शारिरिक तौर पर एक्टिव रहने के साथ ही खानपान का ध्यान रखने की भी सलाह देते हैं।

कुछ ऐसी चीजें हैं, जिनका ब्लड प्रेशर के मरीजों को सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि इनके सेवन से आपको गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

अधिक नमक के सेवन से बचे: हाइपरटेंशन के मरीजों को अपने खाने में अधिक नमक का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि खाने में ज्यादा नमक का इस्तेमाल करने से रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं, जिसके कारण शरीर के अंगों तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती। इस कारण ऑर्गन फेलियर की स्थिति का सामना भी करना पड़ सकता है।

पैक्ड फूड: हाई बीपी के मरीजों को पैक्ड फूड के सेवन से परहेज करना चाहिए। क्योंकि ऐसे खाने को सड़ने से बचाने के लिए इनमें प्रिजरवेटिव्स का इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही इनमें सोडियम की भी अच्छी-खासी मात्रा होती है, जो हाई बीपी के मरीजों के लिए नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। इसिलए जितना हो सके हाई बीपी के मरीजों को उतना घर पर बना खाना ही खाना चाहिए।

कॉफी: हाई बीपी के मरीजों को अधिक मात्रा में कॉफी भी नहीं पीनी चाहिए। क्योंकि कॉफी में मौजूद कैफीन शरीर में हार्मोन्स को ब्लॉक कर देती है, जिसके कारण स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट