health disadvantages of hand dryer - हैंड ड्रायर की गर्म हवा में होते हैं टॉयलेट शीट से ज्यादा बैक्टीरिया, बना सकते हैं बीमार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हैंड ड्रायर की गर्म हवा में होते हैं टॉयलेट शीट से ज्यादा बैक्टीरिया, बना सकते हैं बीमार

एक सर्वे में लोगों की इस आदत को सेहत के लिए काफी खतरनाक बताया गया है। खासकर सार्वजनिक स्थानों पर हैंड ड्रायर का इस्तेमाल ज्यादा हानिकारक साबित हो सकता है।

प्रतीकात्मक चित्र

आजकल की जीवनशैली में तकनीकियों का इस्तेमाल जीवन को सुविधाजनक बनाने के लिए खूब किया जा रहा है। इसी कड़ी में शामिल है भीगे हाथों को सुखाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला हैंड ड्रायर। बाथरूम का इस्तेमाल करने के बाद लोग हाथों को सुखाने के लिए हैंड ड्रायर का इस्तेमाल करते हैं। एक सर्वे में लोगों की इस आदत को सेहत के लिए काफी खतरनाक बताया गया है। खासकर सार्वजनिक स्थानों पर हैंड ड्रायर का इस्तेमाल ज्यादा हानिकारक साबित हो सकता है। आइए, जानते हैं कि ऐसा क्यों है –

हैंड ड्रायर को लेकर हुए एक शोध में कहा गया है कि इससे निकलने वाली गर्म हवा में टॉयलेट सीट के बराबर बैक्टीरिया पाए जाते हैं। ये बैक्टीरिया हाथ सुखाते वक्त आपकी स्किन से चिपक जाते हैं। शोध में हैंड ड्रायर के सामने एक खाली प्लेट रखी गई थी, जिसका बाद में निरीक्षण करने पर पाया गया कि इसमें पैथोजन और स्पोर्स जैसे हानिकारक बैक्टीरिया मौजूद थे। शोधकर्ताओं का कहना है कि ड्रायर की हवा का फैलाव जितना ज्यादा होता, बैक्टीरिया आपके शरीर के उतने हिस्से के स्किन पर चिपकता जाएगा। ऐसे में जिन लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, उनके बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है।

एक अन्य शोध में कहा गया है कि हाल में हुए शोध में बताया गया कि किसी भी इंसान को अपने हाथों को ढंग से सुखाने में कम से कम 15 मिनट का समय लगता है। लेकिन व्यस्त होने की वजह से लोग इतनी देर तक अपने हाथों को ड्रायर के नीचे सुखाने के लिए नहीं रखते। आधे गीले हाथ कई गुना अधिक बैक्टीरिया एक जगह से दूसरी जगह पर फैलाते हैं। जिसकी वजह से आपकी सेहत खराब हो सकती है। इसके अलावा शोध का कहना है कि ड्रायर के इस्तेमाल करने से न सिर्फ बैक्टीरिया फैलने का खतरा बढ़ जाता है बल्कि व्यक्ति को इन्फेक्शन होने का भी रिस्क बना रहता है। ऐसे में हाथ सुखाने के लिए रूमाल का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह हाथ सुखाने का सबसे सुरक्षित तरीका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App