scorecardresearch

प्री-डायबिटीज होने से डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है; समय रहते इन बातों का ध्यान रखें

अधिकांश लोगों को मधुमेह होने से पहले प्री-डायबिटीज होता है। इसके कोई लक्षण नहीं हैं और बहुत से लोग जिन्हें एक साल तक प्री-डायबिटीज है, उन्हें बाद में डायबिटीज हो जाएगी।

प्री-डायबिटीज होने से डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है; समय रहते इन बातों का ध्यान रखें
मधुमेह के लक्षण दिखें तो तुरंत करा लें जांच (Image: Pixabay)

डायबिटीज के बारे में तो सभी ने सुना होगा, लेकिन क्या आप प्री-डायबिटीज के बारे में जानते हैं? अगर नहीं तो ये जानना सभी के लिए बेहद जरूरी है। अगर आपको प्री-डायबिटीज है, तो डॉक्टर से संपर्क कर उचित इलाज से ही डायबिटीज से बचा जा सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक, ज्यादातर लोगों में प्री-डायबिटीज डायबिटीज से पहले होती है। इसके कोई लक्षण नहीं हैं और बहुत से लोग जिन्हें एक साल तक प्री-डायबिटीज है, उन्हें बाद में डायबिटीज होने की संभावना प्रबल हो जाती है। आज हम आपको प्री-डायबिटीज के बारे में महत्वपूर्ण बातें बता रहे हैं, जो हमें डायबिटीज से बचा सकती हैं-

प्री-डायबिटीज क्या है?

हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब किसी व्यक्ति का ब्लड शुगर लेवल सामान्य से थोड़ा ज्यादा हो जाता है, तो उस स्थिति को प्री-डायबिटीज कहा जाता है। हालांकि, इस अवधि के दौरान ब्लड शुगर स्तर मधुमेह की तुलना में कम होता है। टाइप 2 मधुमेह विकसित होने से पहले लोगों में हमेशा प्री-डायबिटीज विकसित होता है। इस स्थिति में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है क्योंकि हमारे शरीर में इंसुलिन रेजिस्टेंस की समस्या होती है। प्री-डायबिटीज के दौरान आपका शरीर अधिक इंसुलिन बनाता है, लेकिन कुछ समय बाद अतिरिक्त इंसुलिन का उत्पादन कम हो जाता है। इसके बाद शुगर की मात्रा बढ़ जाती है और डायबिटीज हो जाती है।

प्री-डायबिटीज से बढ़ता है डायबिटीज का खतरा

प्री-डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों को सही समय पर इलाज न मिलने पर डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। एक अध्ययन के मुताबिक, प्री-डायबिटीज वाले लोगों में सिर्फ एक साल में डायबिटीज होने का खतरा 10 फीसदी तक बढ़ जाता है। मधुमेह के विकास का आजीवन जोखिम 70 प्रतिशत तक है। अगर प्री-डायबिटीज का सही समय पर इलाज किया जाए तो डायबिटीज की समस्या से आसानी से बचा जा सकता है। स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने वालों के लिए यह समस्या अपने आप दूर हो सकती है।

प्री-डायबिटीज और डायबिटीज से कैसे बचें?

  • सभी को अपने शरीर के वजन को नियंत्रण में रखना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति को अपना बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 18.5 से 25 के बीच रखना चाहिए। इसके लिए आप विशेषज्ञों की मदद ले सकते हैं।
  • रोजाना करीब 30 मिनट एरोबिक और स्ट्रेंथिंग एक्सरसाइज करनी चाहिए। यह ब्लड शुगर लेवल को कम करता है और कई बीमारियों से बचाता है।
  • आहार में स्वस्थ चीजों को शामिल करना चाहिए और अस्वास्थ्यकर चीजों से बचना चाहिए। शक्कर पेय से बचें और कैलोरी को नियंत्रण में रखें।
  • अगर आप मोटापे, उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको मधुमेह के खतरे से बचने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच करानी चाहिए।
  • यदि आपको बार-बार पेशाब आना, भूख और प्यास का बढ़ना, अचानक वजन कम होना, अत्यधिक थकान और भ्रम जैसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और मधुमेह की जांच करवाएं।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 28-09-2022 at 09:53:28 am