ताज़ा खबर
 

अगर आप भी लगाते हैं डियो, तो पहले जान लीजिए कितना नुकसान करता है डियोड्रेंट

आइए जानते हैं डियोड्रेंट में कौन-कौनसे खतरनाक तत्व होते हैं और उनसे आपके शरीर को क्या नुकसान होता है।

आजकल हर कोई पसीने की बदबू को दूर करने के लिए डियोड्रेंट का इस्तेमाल करता है, लेकिन क्या आप जानते हैं ये आपके शरीर के लिए कितना नुकसानदायक होता है।

आजकल हर कोई पसीने की बदबू को दूर करने के लिए डियोड्रेंट का इस्तेमाल करता है, लेकिन क्या आप जानते हैं ये आपके शरीर के लिए कितना नुकसानदायक होता है। डियोड्रेंट में कई ऐसे तत्व होते हैं जो कि आपके लिए मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं। आइए जानते हैं डियोड्रेंट में कौन-कौनसे खतरनाक तत्व होते हैं और उनसे आपके शरीर को क्या नुकसान होता है।

स्कीन के लिए नुकसानदायक- पसीने भगाने के लिए इस्तेमाल में आने वाले डियोड्रेंट में प्रोपलीन ग्लाइकोल मौजूद होता हैं जो कि स्कीन के लिए नुकसान दायक होता है। डियोड्रेंट के ज्यादा इस्तेमाल से आपकी त्वचा में रेशेज की दिक्कत शुरू हो सकती है और इसमें न्यूरोटॉक्सिन भी मौजूद होता हैं जो आपकी किडनी और लिवर को असर पहुंचाता है।

पसीने रोकता है- पसीने की बदबू को दूर करने वाले इन डियोड्रेंट में एल्युमिनियम कंपाउंड्स होते हैं जो कि हमारे शरीर से पसीना आने को रोकते हैं और इससे पसीने की ग्रथियां कमजोर हो जाती हैं। इस वजह से पसीने के माध्यम से हमारे शरीर से खराब तत्व बाहर निकलने में सक्षम नहीं हो पाते और इससे कई और बीमारी होने का खतरा बढ़ा जाता है।

ब्रेस्ट कैंसर का खतरा-  डियोड्रेंट में पराबेन नाम के तत्व मौजूद होते हैं जो कि हमारे शरीर के लिए खतरनाक होते हैं। ये पराबेंस सिर्फ डियोड्रेंट में ही नहीं बल्कि कई ब्यूटी सामान में होते हैं। यह बहुत कम लोग जानते हैं कि पराबेन के हमारे शरीर में प्रवेश करने से कई सारी समस्याएं होती हैं। साल 2004 में की गई एक रिसर्च में सामने आया था कि पराबेन ब्रेस्ट कैंसर का कारण भी बन सकती है।

अलजाईमर होने का खतरा-  डियोड्रेंट लगाने से अलजाईमर होने का खतरा भी बढ़ जाता है। बहुत सारे डियोड्रेंट में एल्मुनियम के अंश पाए जाते हैं और एल्मुनियम का मात्रा अधिक होने पर अलजाईमर होने का खतरा बढ़ जाता है। बता दें कि अलजाईमर रोग में मरीज को यादाश्त की शिकायत होने लगती है और वो चीजें भूलने लगता है।

अच्छे बैकटीरिया भी मार देता है-  हमारे शरीर में अच्छे और बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया होते हैं और डियोड्रेंट में ट्रिकलोसन नाम का एक तत्व होता है जो कि बुरे बैक्टीरिया को मारने के साथ साथ अच्छे बैक्टीरिया को भी मार देता है। इससे आपके शरीर के लिए फायदेमंद बैक्टीरिया भी मर जाते हैं और आपके दिक्कतें होना शुरू हो जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App