scorecardresearch

Amyloidosis: परवेज मुशर्रफ को है अमाइलॉइडोसिस की खतरनाक बीमारी; जानिए कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ एमाइलॉयडोसिस से है पीड़ित, जानें इस दुर्लभ बीमारी के बारे में-

parvez musharraf
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ (फोटो-इंडियन एक्सप्रेस)

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और सेना के तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ की हालत नाजुक बनी हुई है। अमाइलॉइडोसिस नामक दुर्लभ बीमारी के कारण वे पिछले 3 सप्ताह से अस्पताल में भर्ती हैं। वे ऐसे कठिन दौर से गुजर रहे हैं जहां से ठीक होने की कोई संभावना नहीं है और ई बीमारी में सभी अंग काम करना बंद कर देते हैं। आइए जानते हैं इस दुर्लभ बीमारी के बारे में-

अमाइलॉइडोसिस क्या है? ( What is Amyloidosis)

अमाइलॉइडोसिस एक दुर्लभ बीमारी है जो तब होती है जब शरीर अमाइलॉइड नामक एक असामान्य प्रोटीन का उत्पादन करता है, जो शरीर के सामान्य कामकाज में हस्तक्षेप करता है। अमाइलॉइड प्रोटीन आमतौर पर शरीर में नहीं पाया जाता है। ये प्रोटीन हृदय, गुर्दे, यकृत, प्लीहा, तंत्रिका तंत्र और पाचन तंत्र जैसे अंगों पर जमा हो सकते हैं और आपके शरीर के कार्यों को प्रभावित कर सकते हैं। उपचार के बिना, अमाइलॉइडोसिस अंग विफलता का कारण बन सकता है।

अमाइलॉइडोसिस लक्षण (Symptoms of Amyloidosis)

आमतौर पर, अमाइलॉइडोसिस के लक्षणों का अनुभव तब तक नहीं होता जब तक कि स्थिति एक एडवांस स्टेज तक नहीं पहुंच जाती। संकेत और लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि कौन से अंग प्रभावित हैं। जैसे-जैसे अमाइलॉइडोसिस बढ़ता है, अमाइलॉइड का संचय हृदय, लिवर, प्लीहा, किडनी, पाचन तंत्र, मस्तिष्क या तंत्रिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है।

कुछ लक्षणों में टखनों और पैरों की सूजन, गंभीर थकान और कमजोरी, कम मेहनत के बाद भी सांस की तकलीफ, सुन्नता, झुनझुनी या हाथों या पैरों में दर्द, कलाई में दर्द (carpal tunnel syndrome), दस्त, बढ़ी हुई जीभ, आंखों के चारों ओर बैंगनी धब्बे, अनियमित दिल की धड़कन और निगलने में कठिनाई शामिल हैं।

अमाइलॉइडोसिस के कारण और संबंधित जोखिम (Causes and associated risks of Amyloidosis)

अमाइलॉइडोसिस आमतौर पर वंशानुगत होता है। इसके कारणों में सूजन संबंधी बीमारियां या लंबे समय तक डायलिसिस शामिल हैं। अमाइलॉइडोसिस दिल की धड़कन के बीच ब्लड पंप करने की हृदय की क्षमता को कम कर देता है, जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है। यदि यह गुर्दे को प्रभावित करता है, तो यह फ़िल्टरिंग सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है, जिससे प्रोटीन ब्लड से मूत्र में लीक हो जाता है। यदि अमाइलॉइड आंतों के कार्य को नियंत्रित करने वाली नसों को प्रभावित करता है, तो एक व्यक्ति को बारी-बारी से कब्ज और दस्त का अनुभव हो सकता है।

अमाइलॉइडोसिस का उपचार (Treatment of Amyloidosis)

वर्तमान में अमाइलॉइडोसिस का कोई इलाज नहीं है। अमाइलॉइड प्रोटीन को सीधे नहीं हटाया जा सकता है। हालांकि, अधिक असामान्य प्रोटीन के उत्पादन को रोकने के लिए उपचार हैं। ज्यादातर मामलों में मरीजों को कीमोथेरेपी दी जाती है। कीमोथेरेपी दवाओं के प्रभाव को बढ़ाने के लिए आमतौर पर कीमोथेरेपी के साथ स्टेरॉयड दिए जाते हैं। इसके अलावा बोन मैरो ट्रांसप्लांट के जरिए मरीज के शरीर से स्वस्थ स्टेम सेल निकाले जाते हैं। फिर उन्हें कीमोथेरेपी में नष्ट की गई अस्वस्थ कोशिकाओं से बदल दिया जाता है।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X