scorecardresearch

युवाओं में बढ़ रहा हैं फैटी लिवर का खतरा, इन आसान तरीकों से कर सकते हैं बचाव

Fatty Liver Cure: फैटी लिवर की समस्या आजकल बढ़ती चली जा रही है। बताया जाता है कि एक बार फैटी लिवर सिरोसिस सेट हो जाए तो कोई भी उपचार प्रभावी साबित नहीं होता है।

युवाओं में बढ़ रहा हैं फैटी लिवर का खतरा, इन आसान तरीकों से कर सकते हैं बचाव
फैटी लिवर की वजह से कई बीमारियों हो सकती हैं।

Fatty Liver Cure: फैटी लिवर की समस्या आजकल बढ़ती चली जा रही है। बताया जाता है कि एक बार फैटी लिवर सिरोसिस सेट हो जाए तो कोई भी उपचार प्रभावी साबित नहीं होता है। इसलिए यह बहुत जरूरी है कि फैटी लिवर की समस्या को नजरअंदाज न करके पहले ही समस्या से बचाव की कोशिश की जाए। क्योंकि फैटी लिवर के लक्षणों को नजरअंदाज करने से और भी कई बीमारियां लग सकती हैं। इसलिए कोई भी लक्षण दिखने पर समय से डॉक्टर से जांच करानी चाहिए। साथ ही यह भी बहुत जरूरी है कि फैटी लिवर से बचाव करने के लिए प्रयास किए जाएं।

फैटी लिवर से बचाव के तरीके (Ways to Stay Away from Fatty Liver)
खून में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को करें नियंत्रित – जिन लोगों में फैटी लिवर के लक्षण दिखने शुरू हो गए हैं उन्हें अपने खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित रखने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने से फैटी लिवर की समस्या होने की संभावनाएं और बढ़ जाती है।

कम करें शुगर और सैचुरेटेड फैटी एसिड का सेवन – शुगर और सैैचुरेटेड फैटी एसिड (Sugar And Saturated Fatty Acid) का सेवन करने से फैटी लिवर होने की संभावनाएं बढ़ती हैं। इसलिए जिन लोगों को अपने शरीर में फैटी लिवर के लक्षण नजर आ रहे हैं उन्हें शुगर और सैचुरेटेड फैटी एसिड का सेवन कम से कम करना चाहिए।

बढ़ने न दें वजन – जिन लोगों के शरीर में फैटी लिवर के लक्षण दिखने शुरू हो गए हैं उन्हें अपना वजन नहीं बढ़ने (Control Weight for Staying Away from Fatty Liver) देना चाहिए। क्योंकि वजन के बढ़ने की वजह से लिवर पर दबाव पड़ता है। साथ ही इससे शरीर में वसा की मात्रा बढ़ने से लिवर पर भी फैट की मोटी परत चढ़ती चली जाती है।

ब्लड शुगर कंट्रोल करना है जरूरी – शरीर में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ने से कई बीमारियां होती हैं। इन्हीं बीमारियों में से एक फैटी लिवर की समस्या भी है। इसलिए जिन लोगों को फैटी लिवर की अकांशाएं लग रही हों उन्हें अपना ब्लड शुगर टेस्ट करवाना चाहिए। साथ ही इसे कंट्रोल में रखने के लिए प्रयास भी करना चाहिए।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.