ताज़ा खबर
 

उपवास के होते हैं अनेक फायदे, दिमाग होता है दुरूस्त, डिप्रेशन से भी मिलता है छुटकारा

व्रत में भोजन पर नियंत्रण कर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है। इससे आपकी आयु भी बढ़ती है

सांकेतिक फोटो

भारत व्रत और त्योहारों का देश है। प्राचीन काल से ही यहां उपवास रखने का चलन है। उपवास का धार्मिक महत्व तो होता ही है, साथ ही साथ यह हमारी सेहत को काफी फायदा पहुंचाते हैं। देश के तमाम त्योहारों मसलन, नवरात्र, करवा चौथ, रमजान आदि मौंको पर उपवास रखनकर लोग ईश्वर के प्रति अपनी श्रद्धा दिखाते हैं। इन उपवासों से हमारे शरीर की तमाम परेशानियां भी दूर होती हैं। व्रत में भोजन पर नियंत्रण कर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है। इससे आपकी आयु भी बढ़ती है तथा बीमारियों के होने का खतरा कम होता है। तमाम डॉक्टर्स भी सप्ताह में एक दिन उपवास की सलाह देते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि उपवास रखने से हमारे शरीर को क्या-क्या फायदे मिलते हैं।

इम्यून सिस्टम होता है मजबूत – उपवास रखने से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होता है। इस वजह से शरीर में बिमारियों से लड़ने की क्षमता बढती है। इसके अलावा न्यूरॉल्जिया, कोलाइटिस, थकान, कब्ज और सिरदर्द होने का खतरा काफी कम हो जाता है।

पाचन तंत्र के लिए बेहतर – व्रत का हमारे पाचन तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। महीने में कम से कम तीन बार उपवास रखने से हमारी पाचन क्रिया दुरुस्त होती है। व्रत के दौरान हमारे पेट और लीवर को काफी आराम मिलता है।

याद्दाश्त बढ़ती है – आपके दिमाग की क्षमता को बढ़ाने में भी उपवास काफी कारगर है। अगर आपका खान-पान अच्छा है और आप हफ्ते में एक बार उपवास रखते हैं तो इससे आपकी सोचने की क्षमता और यादाश्त में तेजी आएगी। इसके अलावा इससे हमारे दिमाग में ब्रेन डेराइव्ड न्यूरोट्रॉफिक फैक्टर (BDNF) नाम का प्रोटीन काफी मात्रा में बढ़ता है। यह प्रोटीन हमारे दिमाग की कार्यशैली को नियंत्रित करता है। इससे दिमाग शांत और स्वस्थ रहता है।

वजन में आती है कमी – वजन कम करने की इच्छा रखने वालों के लिए उपवास अच्छा विकल्प होता है। उपवास से शरीर में फैट को कम करने में मदद मिलती है। जो लोग ज्यादा खाना खाने के आदती होते हैं उन्हें उपवास जरूर रखना चाहिए। उपवास से भूख भी नियंत्रित रहती है, जिससे वजन बढ़ने की संभावनाओं पर विराम लग जाता है।

डिप्रेशन कम होता है – उपवास मानसिक शांति का सबसे बेहतर विकल्प होता है। इससे तनाव, चिंता और अवसाद से बचा जा सकता है। व्रत रखने से मन शांत रहता है और हमारी इच्छाशक्ति भी मजबूत होती है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App