ताज़ा खबर
 

डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है मखाना, ऐसे करें इस्तेमाल

Makhana Benefits: रात में सोते समय दूध के साथ मखाने का सेवन करने से नींद न आने की समस्या दूर हो जाती है

मखाना खाने के हैं स्वास्थ्य फायदे, डाइबिटीज और अर्थराइटिस के मरीज जरूर खाएं

Makhana Benefits: हाल में हुए एक सर्वे के अनुसार देश में डायबिटीज के 75 फीसदी से अधिक मरीजों में शुगर का स्तर अनियंत्रित रहता है। अनियंत्रित डायबिटीज के वजह से मरीजों को हृदयरोग, रक्तचाप, स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ता है। ऐसे में जरूरी है कि डायबिटीज से पीड़ित लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग हो जाएं और अपने डाइट में उन खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिसके सेवन से मधुमेह जैसी बीमारी को काबू में रखने में मदद मिल सके। ऐसा ही एक खाद्य पदार्थ है मखाना, पानी में उपजने वाले मखाने में पोषक तत्वों की भरमार होती है। ‘ओनली माय हेल्थ’ में छपी खबर के अनुसार डायबिटीज पेशेंट को मखाना खाने से फायदा हो सकता है।

कैसे है डायबिटीज में फायदेमंद: डायबिटीज मेटाबॉलिक डिसॉर्डर है, जो हाई ब्लड शुगर के स्तर के साथ होता है। इससे इंसुलिन हार्मोंन का फ्लो करने वाले पैनक्रियाज के कार्य में बाधा उत्पन्न होती है। लेकिन मखाने के बीज मीठे और खट्टे दोनों होते हैं। और इसके बीज में स्‍टार्च और प्रोटीन होने के कारण यह डायबिटीज के लिए बहुत अच्‍छा होता है।  मखाने में प्रोटीन, फॉस्फोरस, आयरन, कैल्शीयम और विटामिन पाए जाते हैं जो कि सेहत के लिए बेहद जरूरी हैं।

क्या है इस्तेमाल करने का तरीका: मखाना को लोग अपने स्वाद के हिसाब से खाना पसंद करते हैं। मखाना लो-फैट, लो कैलरी से भरपूर होता है जिसे आप बेक करके खा सकते हैं या फिर मखाने को थोड़े से घी में भुनकर भी खा सकते हैं। स्वाद को बढ़ाने के लिए आप इसमें रॉक सॉल्ट यानि कि सेंधा नमक मिला सकते हैं।

जवानी बरकरार रखने में करता है मदद: मखाना उम्र के असर को भी बेअसर करने में कारगर होता है। इसे अंग्रेजी में फॉक्सनट या फिर लोटसनट्स भी कहते हैं। मखाने में मौजूद एंटी-ऑक्‍सीडेंट्स चेहरे पर बढ़ती उम्र के निशान को जल्दी नहीं आने देते और आपको लंबे समय तक जवां बनाए रखते हैं। एंटी-एजिंग एलिमेंट्स से भरपूर मखाना प्रीमेच्‍योर एजिंग, प्रीमेच्‍योर वाइट हेयर, झुर्रियों और एजिंग के अन्‍य लक्षणों के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

अर्थराइटिस के मरीजों के लिए है लाभकारी: खबर के अनुसार अर्थराइटिस के मरीजों को भी मखाना खाने की सलाह दी जाती है। इसके पीछे कारण है कि मखाने में कैल्शीयम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे लोगों को हड्डियों और जोड़ों में दर्द की समस्या कम होती है। इसके अलावा, कमर और घुटने के दर्द को भी मखाना खाने से भगाया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Uric Acid को कम करने में रामबाण है जैतून का तेल, जानें- इस्तेमाल का तरीका
2 हर खांसी-जुकाम Coronavirus नहीं, जानें- सामान्य फ्लू और कोरोना वायरस में कैसे करें अंतर…
3 क्या वेजिटेरियन डाइट से कम हो सकता है स्ट्रोक का खतरा? नए रिसर्च में हुआ खुलासा