ताज़ा खबर
 

पीरियड्स के दौरान बढ़ जाता है पेट और कमर में दर्द, तो डाइट में शामिल करें ये 5 फूड्स

Home Remedies For Periods Cramps: ऋजुता दिवेकर के मुताबिक लंच में दही चावल के साथ थोड़ा सा दाल खाना फायदेमंद होगा

दिवेकर के मुताबिक माहवारी के दिनों में होने वाले दर्द को कम करने में सुबह-सुबह भिगोई हुई किशमिश और केसर का सेवन खाली पेट करना चाहिए

Foods to reduce periods pain: पीरियड्स के दौरान युवतियों व महिलाओं को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। माहवारी के समय पेट में दर्द, मूड स्विंग्स, पेट में सूजन, भारीपन, एंग्जायटी, फूड क्रेविंग होती है। इस दर्द को आमतौर पर पीरियड क्रैम्प्स के नाम से जाना जाता है। आमतौर पर 13 वर्ष या उससे अधिक उम्र की लड़कियों को पीरियड्स यानी कि माहवारी शुरू हो जाते हैं। ये एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो लगभग 45 से 50 की उम्र में बंद हो जाती है। ऐसे में पीरियड पेन से बचने के लिए महिलाओं को न्यूट्रिशन एक्सपर्ट ऋजुता दिवेकर कुछ खास फूड्स खाने की सलाह देती हैं

सुबह-सवेरे खाएं ये चीजें: दिवेकर के मुताबिक माहवारी के दिनों में होने वाले दर्द को कम करने में सुबह-सुबह भिगोई हुई किशमिश और केसर का सेवन खाली पेट करना चाहिए। इसमें काली किशमिश का इस्तेमाल ज्यादा लाभकारी है। माहवारी के दौरान दर्द दूर करने का पारंपरिक उपाय है किशमिश और केसर। साथ ही, PMS के लक्षणों को कम करने में भी केसर सहायक है।

हर बार भोजन के साथ इसे खाएं: उनके मुताबिक नाश्ता, खाना और डिनर में घी का सेवन जरूर करें। इससे न सिर्फ पीरियड क्रैम्प्स कम होता है बल्कि चक्कर आने, सिर दर्द कम करने में भी मददगार है। साथ ही, इससे गट हेल्थ भी बेहतर होती है।

दोपहर में खाएं ये: ऋजुता दिवेकर के मुताबिक लंच में दही चावल के साथ थोड़ा सा दाल खाना फायदेमंद होगा। पीरियड पेन और क्रैम्प्स से दूरी बनाने के लिए इसे खाना लाभकारी होगा। दही में कैल्शियम और चावल में मैग्नीशियम और थायमिन होता है। ये सभी तत्व दर्द को कम करने में सहायक भूमिका निभाते हैं।

मुट्ठी भर खाएं ये नट्स: वो इस दर्द को दूर करने के लिए मुट्ठी भर काजू या फिर मूंगफली खाने की सलाह देती हैं। ये नट्स पीरियड्स पेन को दूर करने में मददगार है। साथ ही, अगर आपको मीठा खाने की क्रेविंग हो तो गुड़ खा सकती हैं। इससे मूड भी अच्छा रहता है।

ऐसा होना चाहिए डिनर: पीरियड्स पेन को दूर करने में खिचड़ी भी फायदेमंद है, रात को इसे खाने से दर्द कम होता है। साथ ही, इस दौरान होने वाली दूसरी दिक्कतें जैसे कि मूड स्विंग्स, फूड क्रेविंग और PMS के लक्षणों को भी कम करता है। साबुत अनाज की खिचड़ी या फिर कुट्टू का सेवन भी लाभकारी होगा।

Next Stories
1 डायबिटीज के साथ किडनी स्टोन के इलाज में भी कारगर हैं आम के पत्ते, इस तरह करें इस्तेमाल
2 खाने के 2 घंटे बाद कितनी होनी चाहिए शुगर की मात्रा? इन सब्जियों को खाने से नहीं बढ़ेगा शुगर लेवल
3 इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर वजन घटाने में मददगार है काला चना, जानें कितना और कैसे खाने से होगा लाभ
यह पढ़ा क्या?
X