ताज़ा खबर
 

अगर पानी में है आर्सेनिक का प्रभाव, कम उम्र में ही हो सकती है दिल की गंभीर बीमारी

Arsenic in Drinking Water: कई अध्ययनों से पता चला है कि आर्सेनिक हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज सहित हृदय रोग और इसके जोखिम को बढ़ाता है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

Arsenic in Drinking Water: एक अध्ययन के अनुसार जो लोग आर्सेनिक वाले दूषित पानी पीते हैं उनके हार्ट के पंपिंग चैम्बर मोटे हो जाते हैं जिसके कारण दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ सकता है। कई लोगों के एरिया में मौजूद ग्राउंडवाटर कॉन्टैमिनेटेड होता है जिसमें आर्सेनिक अधिक मात्रा में होते हैं। हॉस्पिटल हिर्त्ज़िंग / हार्ट सेंटर क्लिनिक फ्लोरिड्सडॉर से ऑस्ट्रिया के गर्नोट पिक्लर ने कहा, “जो लोग प्राइवेट वेल्स से पानी पीते हैं उन्हें आर्सेनिक के बारे में पता होना चाहिए वरना कार्डियोवस्कुलर डीजिज होने की संभावना बढ़ जाती है।”

पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के प्रमुख लेखक पिचलर ने कहा, उन वेल्स की कार्रवाई करने और जोखिम को रोकना एक महत्वपूर्ण और बड़ा कदम हो सकता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि आर्सेनिक हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज सहित हृदय रोग और इसके जोखिम को बढ़ाता है।

शोधकर्ताओं ने स्ट्रॉन्ग हार्ट फैमिली स्टडी के आंकड़ों की समीक्षा की, एक अध्ययन जो अमेरिकी भारतीयों के बीच हृदय जोखिम कारकों का मूल्यांकन करता है। 1,337 वयस्कों के यूरिन सैम्पल्स के जरिए आर्सेनिक की मौजूदगी की जांच की गई(औसत आयु 30.7 वर्ष, 61 प्रतिशत महिला) और अल्ट्रासाउंड का उपयोग करके उनके हार्ट के शेप, साइज और कार्य का मूल्यांकन किया गया।

पांच साल के अध्ययन की शुरुआत में प्रतिभागियों में से किसी को भी डायबिटीज या हृदय रोग नहीं था। आर्सेनिक का खतरा सामान्य अमेरिकी आबादी की तुलना में अधिक था, लेकिन मेक्सिको और बांग्लादेश में किए गए अन्य अध्ययन की तुलना में कम था। शोधकर्ताओं ने बताया कि जिन लोगों के यूरिन में आर्सेनिक की दो गुना ज्यादा होती है उनके हार्ट का पंपिंग चैम्बर 47 प्रतिशत अधिक मोटा हो जाता है। उन्होंने हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों का लेफ्ट वेंट्रीकल 58 प्रतिशत मोटा पाया।

पिचलर ने कहा, “हाई ब्लड प्रेशर वाले विषयों में मजबूत संघ का सुझाव है कि प्री-क्लिनिकल हार्ट डीजिज वाले व्यक्ति आर्सेनिक के जहरीले प्रभाव से अधिक पीड़ित हो सकते हैं।

(और Health News पढ़ें)

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App