ताज़ा खबर
 

क्या आपका बच्चा भी रात में उठकर अचानक रोने लगता है? जानिये- क्या हो सकती है इसकी वजह

Child Care Tips: अगर आपका बच्चा जरूरत से ज्यादा रोता है तो किसी बच्चे के डॉक्टर को अवश्य दिखाएं। कई बार कान में दर्द होने की वजह से भी बच्चे रोते हैं।

क्या आपका बच्चा भी रात को बार-बार रोता है, जानिए क्या हो सकते हैं कारण

Child Care Tips: छोटे बच्चों की बातें समझना कोई आसान काम नहीं है। उन्हें क्या चाहिए इस बात को वो बोलकर नहीं समझा पाते जिससे हो सकता है कि वो चिड़चिड़े हो जाएं। कई बार जब बच्चों को उनके मन मुताबिक चीजें नहीं मिलती तो वो रोने भी लगते हैं। वैसे तो छोटे में सभी बच्चे रोते हैं, लेकिन अगर बच्चा चुप होने का नाम ही ने ले तो वो परेशानी की बात हो सकती है। कई बार शिशु रात में अचानक उठ के रोने लगता हैं। हालांकि, ऐसा नींद खुलने या फिर सामने किसी को न देख पाने की स्थिति में भी हो सकता है। लेकिन अगर आपका बच्चा रात को काफी देर तक या हमेशा रोता है तो इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। आइए जानते हैं-

जब बच्चों को लगती है भूख: बच्चे जब छोटे होते हैं तो उनको हर समय दूध पीने की आदत हो जाती है क्योंकि उनकी भूख को शांत करने का एकमात्र सहारा दूध ही होता है। इसलिए भूख लगते ही बच्चे रोना शुरू कर देते हैं ताकि उन्हें दूध मिल सके। यही वजह है अधिकांश समय जब बच्चे रोते हैं तो घरवाले उनको दूध पिलाने की ही सलाह देते हैं। हालांकि, दूध पिलाने के बच्चों को डकार दिलवाना भी बहुत जरूरी होता है। ऐसा नहीं करने पर उन्हें असहज महसूस होगा और वो रोते रहेंगे।

डकार नहीं कराने से होता है गैस: छोटे बच्चों को अक्सर गैस की समस्या हो जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्रेस्ट मिल्क या फिर बोतल से दूध पीने के समय बच्चे दूध के साथ ही हवा को भी निगल जाते हैं जो कि गैस का रूप ले लेता है। इसके वजह से बच्चों के पेट में काफी दर्द रहने लगता है। इसलिए दूध पिलाने के बाद ये ध्यान रखें कि बच्चे को डकार दिलवाया जाए। जब बच्चा रात को ज्यादा रोने लगे तो हो सकता है कि वो गैस की वजह से रो रहा हो। ऐसे में आप बच्चे को पेट की तरफ लेटाकर उसकी पीठ को मालिश कर सकते हैं। ऐसा करने से बच्चों को राहत मिलती है और गैस भी निकल जाता है।

दांत दर्द भी हो सकता है कारण: कई बार बच्चे रात को बहुत जोर-जोर से रोने लगते हैं। चुप कराने के बावजूद उनके लगातार रोते रहने से माता-पिता भी चिंतित हो जाते हैं। ऐसे समय में ये याद रखना भी जरूरी है कि अगर आपका बच्चा 4 महीने का हो चुका है तो वो दांत निकलने की वजह से भी रो सकता है। 4 महीनों के बाद बच्चों के दांत निकलने शुरू हो जाते हैं जो कि काफी कष्टदायक होते हैं। आपने इस ओर जरूर ध्यान दिया होगा कि जब बच्चों के दांत आने शुरू होते हैं तो वो अपने मुंह में किसी चीज को दबाने की कोशिश करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे बच्चों को दर्द में आराम मिलता है। दांत निकलने के समय होने वाले दर्द से राहत दिलाने के लिए  आप बच्चों के मसूड़ों पर धीरे से मालिश कर सकते हैं।

Next Stories
1 Uric Acid को कंट्रोल करना है तो, इन 5 जूस को करें डाइट में शामिल
2 Coronavirus: बाजार से खरीदे फल या सब्जी से नहीं होगा संक्रमण का खतरा, बस कर लें ये काम…
3 ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में असरदार है गाजर और चुकंदर, इस तरह करें डाइट में शामिल
ये पढ़ा क्या ?
X