scorecardresearch

क्या आपको लगता है कि डायबिटीज कभी ठीक नहीं हो सकता? जानिए मधुमेह के बारे में 5 मिथक

सबसे आम बीमारियों में से एक मधुमेह पूरे विश्व में बढ़ रहा है, WHO के मुताबिक यह बीमारी केवल भारत में ही वर्ष 2030 तक 100 मिलियन का आंकड़ा पार कर सकती है।

क्या आपको लगता है कि डायबिटीज कभी ठीक नहीं हो सकता? जानिए मधुमेह के बारे में 5 मिथक
Myths and facts: मधुमेह के बारे में मिथक और तथ्य (Image: Pixabay)

आज देश में लाखों लोग मधुमेह से पीड़ित हैं और इसके रोगियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, भारत में होने वाली कुल मौतों में से 2 प्रतिशत अकेले मधुमेह के कारण होती है। मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसमें रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। अगर इसकी जांच और नियंत्रण में नहीं रखा गया तो यह कई अन्य गंभीर स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों को जन्म दे सकता है।

मधुमेह के कारण उच्च रक्तचाप, गुर्दे की बीमारी, हृदय रोग भी हो सकता है। मधुमेह से जुड़े कुछ मिथक भी लोगों के बीच फैले हुए हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि यदि आपको मधुमेह हो गया तो यह कभी ठीक नहीं होगा, या यदि माता-पिता को है, तो बच्चे को भी होगा, आदि। आइए जानते हैं डायबिटीज से जुड़े कुछ ऐसे ही मिथकों के बारे में-

मिथक 1- एक बार मधुमेह हो जाने के बाद यह कभी ठीक नहीं हो सकता है?

तथ्य- हेल्थ लाइन के मुताबिक शुरुआती दौर में मधुमेह को कम किया जा सकता है। खासकर युवावस्था में यदि आपका खानपान ठीक है और रोजाना व्यायाम करते हैं, तो डायबिटीज को नियंत्रित किया जा सकता है । यदि उपचार के बिना रक्त शर्करा सामान्य रहता है तो माना जाता है कि आपका डायबिटीज रिवर्स हो गया है। ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता कि मधुमेह का रोगी हमेशा डायबिटीज से पीड़ित रहेगा। जी हां, अगर ब्लड शुगर को कंट्रोल में नहीं रखा गया तो डायबिटीज का खतरा हमेशा बना रहता है। स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर आप मधुमेह से बच सकते हैं।

मिथक 2- मधुमेह रोगी चीनी नहीं खा सकते हैं?

तथ्य – यह मधुमेह से संबंधित लोगों में प्रचलित सबसे आम मिथक है। लोग सोचते हैं कि मधुमेह रोगियों को जीवन भर चीनी मुक्त आहार पर निर्भर रहना पड़ता है, लेकिन ऐसा नहीं है। एक मधुमेह रोगी को संतुलित मात्रा में सब कुछ खाने की आवश्यकता होती है, जिसमें चीनी या मिठाई सीमित मात्रा में शामिल हो सकती है। ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि डायबिटीज के मरीजों को चीनी का सेवन पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए।

मिथक 3- टाइप 2 मधुमेह केवल मोटे लोगों में होता है

तथ्य – Diabetes.co.uk की रिपोर्ट है कि टाइप 2 मधुमेह न केवल मोटे लोगों को प्रभावित करता है। टाइप 2 मधुमेह एक जीवन शैली की समस्या है, जिसके लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं। काफी हद तक इसका संबंध मोटापे से है लेकिन ऐसा नहीं है कि यह बीमारी सिर्फ मोटे लोगों को ही प्रभावित करती है। टाइप 2 मधुमेह वाले लगभग 20% लोग सामान्य या कम वजन के होते हैं।

मिथक 4- माता-पिता को मधुमेह है तो उनके बच्चों को भी डायबिटीज हो सकता है?

तथ्य- बेशक मधुमेह होने का पारिवारिक इतिहास से गहरा संबंध है, लेकिन यह कई अन्य जोखिम कारकों जैसे बढ़ती उम्र, मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी, व्यायाम की कमी, आहार में लापरवाही के कारण भी हो सकता है। बहुत से लोग सोचते हैं कि मधुमेह के विकास के लिए पारिवारिक इतिहास ही एकमात्र जोखिम कारक है, लेकिन सच्चाई यह है कि जिन लोगों को मधुमेह का पारिवारिक इतिहास नहीं है, उनमें यह रोग विकसित हो सकता है। स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर आप जीवन भर मधुमेह से खुद को बचा सकते हैं।

इतना ही नहीं, टाइप 2 मधुमेह और मोटापे के बीच एक स्पष्ट आनुवंशिक संबंध है। इसमें जीन निष्क्रिय होते हैं लेकिन व्यक्ति की जीवनशैली, खान-पान, तनाव के कारण ये जीन सक्रिय हो जाते हैं। हालांकि, इन जीनों को स्वस्थ आहार, जीवनशैली और तनाव में कमी के माध्यम से पुनः सक्रिय किया जा सकता है। मधुमेह के बच्चे आमतौर पर और स्वस्थ हैं। 45 साल की उम्र के बाद उन्हें टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे में टाइप 2 डायबिटीज सिर्फ 15-20 फीसदी लोगों को ही प्रभावित करता है।

मिथक 5- मधुमेह एक संक्रामक रोग है, जो एक से दूसरे में फैल सकता है?

तथ्य – यह पूरी तरह से गलत अवधारणा है। मधुमेह कोई संक्रामक रोग नहीं है। इसे एक गैर-संचारी रोग के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसका अर्थ है कि यह किसी संक्रमित व्यक्ति के छींकने या छूने से नहीं फैलता है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं हो सकता। एक बच्चा मधुमेह माता-पिता से ही मधुमेह विकसित कर सकता है, क्योंकि जीन इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 21-09-2022 at 10:50:43 am
अपडेट