scorecardresearch

बार-बार चकराने लगता है सिर तो हो सकता है लो ब्लड प्रेशर का इशारा, जानें दूसरे लक्षण

Low Blood Pressure ke Lakshan: लो बीपी के कई मरीजों में दस्त, उल्टी, थकान व बेहोशी जैसी समस्याएं भी देखने को मिलती हैं

Low blood pressure, Low blood pressure symptoms, Low BP
नसों में रक्त का दबाव घटने की वजह से लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती है

Low BP Symptoms: वर्तमान समय में केवल उच्च रक्तचाप ही नहीं बल्कि लो बीपी की समस्या भी परेशान करती है। इससे पीड़ित मरीजों के शरीर में रक्त प्रवाह का स्तर कम होने लगता है। इसे हाइपोटेंशन कहते हैं जिसमें बीपी लेवल की रीडिंग 90 और 60 के करीब हो जाता है। ये स्वास्थ्य समस्या न केवल उम्रदराज लोगों को परेशान करती है बल्कि कम उम्र के लोग भी लो बीपी से ग्रस्त हो जाते हैं। ऐसे में इस बीमारी के लक्षणों को जान लेना अति आवश्यक है, आइए जानते हैं –

इन लक्षणों से करें लो बीपी की पहचान: जिन लोगों को लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती है उनके शरीर में कुछ परेशानियां भी आने लगती हैं। निम्न रक्तचाप के मरीजों को बार-बार सिर चकराने की परेशानी हो सकती है। इसके अलावा, शरीर का ठंडा होना और ड्राय स्किन भी लो बीपी के लक्षण हो सकते हैं। इसके अलावा, अगर लोगों में हमेशा भ्रम की स्थिति बनी रहती है या फिर धुंधलापन या फोकस करने में परेशानी होती है तो उन्हें अपने रक्तचाप के स्तर की जांच करा लेनी चाहिए।

ये भी हो सकती है परेशानी: नसों में रक्त का दबाव घटने की वजह से लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती है। इस कारण मरीजों को छाती में दर्द, गले में अकड़न, धड़कनों का अनियमित होना या तेज बुखार की शिकायत हो सकती है। वहीं, लो बीपी के कई मरीजों में दस्त, उल्टी, थकान व बेहोशी जैसी समस्याएं भी देखने को मिलती हैं। इसके अलावा, सांस की गति में परिवर्तन, कमजोर नाड़ी और थकान भी हाइपोटेंशन के लक्षण हैं।

बीपी कंट्रोल करने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड्स: स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि इन मरीजों को अपनी डाइट में उन फूड्स को खासकर शामिल करना चाहिए जिनमें प्राकृतिक रूप से सोडियम पाया जाता हो। बता दें कि करौंदा, नाशपाती, अमरस, लसौड़ा इत्यादि फूड्स में सोडियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। साथ ही, लोगों को अचार और चटनी भी खाना चाहिए क्योंकि इसमें नमक ज्यादा मिला होता है।

ये हैं बचाव के उपाय: हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार 3 से 4 दिनों तक अगर लगातार आपका बीपी 90/60 रहता है तो दिन में दो से तीन बार कॉफी का सेवन करना चाहिए। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक लो बीपी के मरीजों को कम कार्ब्स का सेवन करना चाहिए। साथ ही, इन मरीजों को व्रत रखने से भी बचना चाहिए व भोजन के बीच लंबे समय का अंतराल नहीं रखना चाहिए। वहीं झटके से उठने से भी बचें।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.