ताज़ा खबर
 

Diabetes: डायबिटीज के मरीज इन 5 फलों से रखें खुद को दूर, हो सकता है खतरा

Diabetes, Diet, Diet Plan, Fruits, Drinks: डायबिटीज के मरीजों को सुरक्षित रहने के लिए, ज्यादातर कुछ फलों से बचने की सलाह दी जाती है जो ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है। आइए जानते हैं उन फलों के बारे में-

डायबिटीज के मरीज इन फलों को ना खाएं

एक हेल्दी डाइट आपके शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। डाइट में फलों को शामिल करना आपके शरीर को आवश्यक विटामिन, कार्बोहाइड्रेट और मिनरल्स प्रदान कर सकता है। लेकिन वहीं दूसरी तरफ, डायबिटीज के मरीजों को फल खाते समय कुछ सावधानी बरतने की जरूरत होती है। हालांकि फल हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, लेकिन कुछ फल एक डायबिटीज के मरीजों के लिए हानिकारक हो सकता है। डायबिटीज वाले व्यक्ति के मामले में, विभिन्न फल शरीर में ब्लड शुगर के लेवल में एक अलग बदलाव का कारण बन सकता है। सुरक्षित रहने के लिए, ज्यादातर कुछ फलों से बचने की सलाह दी जाती है जो ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है। आइए जानते हैं उन फलों के बारे में-

आम: 100 ग्राम आम में लगभग 14 ग्राम चीनी की मात्रा होती है, जिससे ब्लड शुगर का संतुलन बिगड़ सकता है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को आम खाने से बचना चाहिए वरना उनका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है जिसके कारण हृदय रोग या फिर स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है।

अनानास: हालांकि डायबिटीज के मरीजों के लिए अनानास खाना फायदेमंद होता है, लेकिन यदि अधिक मात्रा में इसे खाई जाएगी तो इससे ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। ऐसे में आप अनानास को सीमित मात्रा में खाएं और अपने ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर करते रहें।

तरबूज: तरबूज फाइबर और कैलोरी में कम होता है। तरबूज का जीआई वैल्यू 72 होती है और आधे कप सर्विग में लगभग 5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट शामिल होता है, इसलिए इस फल को जितना हो सके उतना कम खाएं। खासतौर पर डायबिटीज के मरीज तरबूज को कम मात्रा में खाएं, वरना उनका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है।

पपीता: पपीता में कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी में उच्च मात्रा में होता है, और जीआई का औसत 59 होती है। यदि डायबिटीज मरीज पपीता को अपनी डाइट में शामिल करते हैं, तो ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। ऐसे में यदि आपको खाना भी है तो इसे सीमित मात्रा में खाएं।

फ्रूट जूस: 100 प्रतिशत फलों के रस को डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों को इससे बचना चाहिए क्योंकि यह ग्लूकोज स्पाइक्स का कारण बन सकता है। चूंकि इन रसों में कोई फाइबर नहीं होता है, रस जल्दी से मेटाबोलाइज्ड होता है और मिनटों के अंदर ब्लड शुगर को बढ़ाता है।

Next Stories
1 आयुर्वेद में है कई बीमारियों का तोड़, जानिए कैसे होगी इम्यूनिटी मजबूत
2 ये व्यायाम करने से होगा दिल के मरीजों को लाभ, बेहद आसान है तरीका
3 ब्रेकफास्ट और डिनर में छिपा है स्लिम बॉडी का राज, जानें- रिसर्च में क्या सामने आया
ये पढ़ा क्या?
X