ताज़ा खबर
 

इस विटामिन की कमी से Diabetes के मरीजों की आंखों की रोशनी होती है कमजोर, जानें कैसे करें इस कमी को पूरा

Home Remedies to control Diabetes: गाजर, पालक, मछली, दूध, अंडा जैसे खाद्य पदार्थों में ये विटामिन भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार डायबिटिक रेटिनोपैथी होने के कारण मधुमेह के मरीजों की आंखों की रोशनी कमजोर होने लगती है

Tips for Diabetes Patients: शरीर में जब ब्लड शुगर की मात्रा अनियंत्रित हो जाती है तब डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। इस बीमारी से पीड़ित लोगों की इम्यूनिटी कमजोर होती है जिस वजह से उन्हें अपने सेहत की ओर विशेष ध्यान देना चाहिए। इम्युनिटी के अलावा, मधुमेह के गंभीर मामलों में मरीज के अलग-अलग हिस्से भी प्रभावित होते हैं। ब्लड शुगर अनियमित होने से किडनी और लीवर जैसे महत्वपूर्ण अंग भी डैमेज हो सकते हैं। केवल इतना ही नहीं बल्कि डायबिटीज के मरीजों की आंखों की रोशनी भी प्रभावित होती है। हालांकि, एक शोध के अनुसार मधुमेह के मरीज अगर विटामिन-ए का सेवन करें, तो उन्हें रेटिनोपैथी की स्थिति को कम करने में मदद मिल सकती है।

क्या हुआ शोध में खुलासा: द अमेरिकन जर्नल ऑफ पैथोलॉजी में प्रकाशित इस अध्ययन में बताया गया है कि डाइबिटीज के मरीज अगर अपनी डाइट में विटामिन- ए युक्त भोजन को शामिल कर लें तो आंखों की रोशनी जल्दी खराब नहीं होती है। चूहों पर हुए इस अध्ययन में पाया गया कि जिन चूहों का उपचार ‘9-सीस-रेटिनल’ से किया गया उनकी आंखों की रोशनी दूसरों की तुलना में बेहतर थी। इस शोध के निष्कर्षों के अनुसार जो लोग विटामिन ए का पर्याप्त सेवन नहीं करते हैं उनमें डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा अधिक देखने को मिलता है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी को ऐसे समझें: हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार डायबिटिक रेटिनोपैथी होने के कारण मधुमेह के मरीजों की आंखों की रोशनी कमजोर होने लगती है। ये कंडीशन तब बनती है जब किसी भी मरीज के रेटिना में मौजूद ब्लड वेसल्स डैमेज हो जाते हैं। बता दें कि डायबिटीज के मरीजों के खून में शुगर की मात्रा अधिक होती है जिसके कारण ब्लड वेसल्स ब्लॉक हो सकते हैं और मरीजों को ब्लीडिंग की शिकायत हो सकती है। रेटिनोपैथी का उपचार इस बात को ध्यान में रखते हुए किया जाता है कि उस मरीज की सेहत की स्थिति कैसी है। इसके ट्रीटमेंट के लिए डॉक्टर्स इंजेक्शन, आंखों की सर्जरी या फिर लेजर ट्रीटमेंट का सहारा लेते हैं।

डाइट में इन्हें करें शामिल: डायबिटीज के अलावा, स्वस्थ लोगों में भी विटामिन-ए की कमी से आंखों में ड्राइनेस, अंधापन या फिर रतौंधी की समस्या हो सकती है। ऐसे में जरूरी है कि लोग अपनी डाइट में विटामिन-ए युक्त भोजन को शामिल करें। हरी-पत्तेदार सब्जियों और फलों के सेवन से शरीर में इस विटामिन की कमी को रोका जा सकता है। गाजर, पालक, मछली, दूध, अंडा जैसे खाद्य पदार्थों में ये विटामिन भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। इनके अलावा, शकरकंद, पपीता, दही, सोयाबीन जैसे फूड आइटम्स भी विटामिन-ए के अच्छे स्रोत माने जाते हैं।

Next Stories
1 परिवार में किसी को है Arthritis की समस्या, इन 4 तरीकों से कर सकते हैं मदद
2 मसूड़ों की सूजन को दूर करने के लिए रामबाण है लौंग, और भी हैं कई घरेलू उपाय; जानिये
3 कोरोना काल में कैसे बचें खांसी, जुकाम और फ्लू से? करीना कपूर की डाइटिशन ऋजुता दिवेकर ने बताए ये घरेलू नुस्ख़े
ये पढ़ा क्या?
X