ताज़ा खबर
 

Diabetes रोगी अगर हैं हाई बीपी से ग्रस्त तो जानिये कैसी होनी चाहिए लाइफस्टाइल

Uncontrolled Diabetes and BP: जिन लोगों को अनियंत्रित ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर की परेशानी है उन्हें अपनी डाइट और लाइफस्टाइल का खास ख्याल रखना चाहिए

मोटापा इन दोनों ही बीमारियों के मरीजों के लिए खतरे से खाली नहीं है, ऐसे में वजन पर संतुलन बनाए रखना बहुत आवश्यक है

Diabetes and High Blood Pressure: हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक जिस डायबिटीज मरीज का शुगर लेवल अनियंत्रित हो जाता है उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। लंबे समय से मधुमेह रोगियों के दिल, किडनी, आंखें और मस्तिष्क संबंधी रोग होने का खतरा रहता है। वहीं, कई मरीजों में हाइपरटेंशन की परेशानी भी देखी गई है। हाइपरटेंशन यानी हाई बीपी जो अगर बेकाबू हो तो इस कारण हृदय की मांसपेशियां मोटी होने लगती हैं। उच्च रक्तचाप के गंभीर मरीजों को हार्ट फेलियर, ब्रेन हैमरेज और स्ट्रोक होने की संभावना रहती है। हालांकि, ये दोनों ही रोग खराब जीवन शैली के कारण होती है। ऐसे में आइए जानते हैं कि कैसी होनी चाहिए मरीजों की लाइफस्टाइल –

एक्सपर्ट्स का मानना है कि जिन लोगों को अनियंत्रित ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर की परेशानी है उन्हें अपनी डाइट और लाइफस्टाइल का खास ख्याल रखना चाहिए। उनके अनुसार ऐसे मरीजों को भूलकर भी स्मोकिंग नहीं करना चाहिए। इसके अलावा, स्ट्रेस भी इन दोनों परेशानियों को बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में तनाव लेने से बचें।

कैसे रहें स्ट्रेस से दूर: स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि कई हेल्दी तरीकों से लोग अपने स्ट्रेस को कम कर सकते हैं। ध्यान यानी मेडिटेशन तनाव को कंट्रोल करने में मदद करत है। इस कोरोना काल में यूं भी तनाव अधिक हो सकता है, ऐसे में कुछ अपनी पसंद के कार्यों को करके या फिर गाना सुनकर स्ट्रेस लेवल काबू किया जा सकता है।

वजन पर रखें नियंत्रण: मोटापा इन दोनों ही बीमारियों के मरीजों के लिए खतरे से खाली नहीं है, ऐसे में वजन पर संतुलन बनाए रखना बहुत आवश्यक है। इसके लिए हेल्दी डाइट फॉलो करें जिसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मौजूद हैं। फाइबर और प्रोटीन युक्त भोजन करने से लोगों का वजन भी काबू में रहता है और शुगर-बीपी लेवल भी ठीक बना रहता है। साथ ही, शारीरिक गतिविधि करते रहें। एक्सपर्ट्स का मानना है कि रोज आधे घंटे भी अगर लोग टहलते हैं तो इससे डायबिटीज और बीपी की परेशानियां कम होती हैं।

इनसे करें परहेज: ज्यादा मीठा अथवा नमकीन फूड्स खाने से बचें। साथ ही, धूम्रपान और शराब का सेवन भी ऐसे मरीजों के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। तला-भूना खाना, रेड मीट, चावल, मैदा, ब्रेड, पास्ता जैसे फूड्स भी मरीजों को खराबी कर सकते हैं।

Next Stories
1 क्या किशोरों पर कोरोना टीका काम करता है?
2 टायफाइड का भी एक लक्षण हो सकता है बुखार, जानें कैसे करें पहचान और बचाव
3 सेब से लेकर ग्रीन टी तक, इन फूड्स के इस्तेमाल से काबू में रहेगा यूरिक एसिड
ये  पढ़ा क्या?
X