scorecardresearch

बेचैनी और घबराहट की वजह से अस्पताल में भर्ती हुईं दीपिका पादुकोण, जानिए परेशानी की खास वजह और उपचार

बार-बार घबराहट और बैचेनी महसूस होना एग्जायटी अटैक के लक्षण हो सकते हैं।

बेचैनी और घबराहट की वजह से अस्पताल में भर्ती हुईं दीपिका पादुकोण, जानिए परेशानी की खास वजह और उपचार
दीपिका को घबराहट, बैचेनी और धड़कने तेज होने की परेशानी इससे पहले भी हो चुकी है। file photo

बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को मंगलवार यानि 27 सितंबर को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्हें बेचैनी और घबराहट महसूस हो रही थी जिसकी वजह से उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया। पिछले चार महीनों में दीपिका दो बार भर्ती हो चुकी हैं। इससे पहले भी जून के महीने में दीपिका ने शूटिंग के दौरान हृदय गति में वृद्धि की शिकायत की थी। आखिर किसी को भी बार-बार बैचेनी और खबराहट क्यों होती है कि अस्पताल जाने तक की नौबत आ जाती है।

मसरूफियत की जिंदगी में लोगों पर तनाव हावी होता जा रहा है। काम का बोझ, नींद की कमी, खान-पान की खराबी आपको जाने-अनजाने में ही तनाव की बीमारी का शिकार बना देती है। तनाव की वजह से ही इनसान परेशान रहता है। उसे घबराहट, डर और चिंता रहती है। अगर समय रहते इससे बाहर नहीं आया जाए तो ये एंग्जायटी अटैक का रूप ले सकता है।

दीपिका पादुकोण इससे पहले जब अस्पताल में भर्ती हुई थी उस समय उन्होंने सांस तेज चलने की शिकायत की थी, जो एग्जायटी का ही लक्षण है। यह एक मानसिक रोग है, जिसमें रोगी को बैचेनी, चिंता और डर का अनुभव होता है। समय पर इसका इलाज करना जरूरी है वरना आगे चल कर मिर्गी की बीमारी का खतरा बढ़ सकता है। आइए जानते हैं कि एग्जायटी अटैक क्या है और इसके लक्षणों की पहचान कैसे करें और उसका उपचार क्या है।

एग्जायटी अटैक के लक्षण:

  • एग्जायटी अटैक होने पर बॉडी में बहुत ज्यादा पसीना आता है।
  • इनसान को घबराहट महसूस होती है। ये घबराहट लम्बे समय तक भी हो सकती है।
  • बैचेनी बढ़ने लगती है और ध्यान केंद्रित करना मुश्किल होता है।
  • सांस लेने में दिक्कत हो सकती है और घुटन महसूस होती है। एग्जायटी अटैक की वजह से सांस तक लेना दूभर हो जाता है।
  • दिल की धड़कने बेहद तेज चलती है। इसमें इनसान का दिल तेजी से धड़कता हुआ महसूस होता है।
  • कुछ लोग एग्जायटी अटैक के हल्के लक्षण महसूस करते हैं तो कुछ ज्यादा महसूस करते हैं।
  • एग्जायटी अटैक की वजह से सीने में जकड़न महसूस होती है।

एग्जायटी का उपचार कैसे करें:

  • अक्सर घबराहट और बैचेनी महसूस करते हैं तो सबसे पहले अपनी डाइट पर ध्यान दें। हेल्दी डाइट का सेवन करें। अगर आप नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं तो उनसे परहेज करें।
  • साइकोथेरेपी का इस्तेमाल करके आप एग्जाइटी का इलाज कर सकते हैं। साइकोथैरेपी में मन को कंट्रोल करना सिखाया जाता है। नियम अनुसार खाएं और सोए।
  • घबराहट और बैचेनी महसूस करते हैं तो अकेले नहीं रहें। दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताएं।
  • रात की पूरी नींद लें। 7-8 घंटे की रात की नींद सेहत के लिए बेहद जरूरी है।
  • डाइट में ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें। जंक फूड से परहेज करें।
  • अगर आप घबराहट और बैचेनी महसूस करते हैं तो म्यूजिक सुनिए। म्यूजिक आपको इस परेशानी से निजात दिलाएगा। संगीत से ब्‍लड़ प्रेशर, हार्ट रेट और तनाव दूर हो ता है।
  • रेगुलर एक्सरसाइज और योगा कीजिए। रोजाना आधा घंटे का योगा और एक्सरसाइज आपको मानसिक रोगों से निजात दिलाएगा और बॉडी को हेल्दी रखेगा।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 28-09-2022 at 11:12:40 am
अपडेट