ताज़ा खबर
 

COVID-19: घर बैठे आयुर्वेद के जरिये ऐसे लड़ सकते हैं कोरोना से…

Coronavirus: डॉ गोपाल कृष्ण मिश्रा "वैद्य" ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए अपने अनुभव के आधार पर संक्रमण रोकने की कई बातें बताई। बशर्ते कि इसका कोई साइड इफेक्ट न हो। आइए जानते हैं उन्होंने क्या जरूरी बातें बताईं-

coronavirus, corona treatment, ayurvedic corona treatmentआयुर्वेद में है कोरोना का इलाज

वैश्विक विषाणु कोरोना संक्रमण से पूरी दुनिया तबाह है। अभी तक इसकी रोकथाम के वास्ते पक्की तौर पर कोई दवा या टीके का इजात नहीं हो पाया है। भारत एशिया में पहला और दुनिया में चौथे स्थान पर पहुंच गया है। ऐसे में इस संवाददाता ने भागलपुर जिला आयुर्वेद सम्मेलन के अध्यक्ष एवं चेंबर ऑफ कॉमर्स के आजीवन सदस्य डॉ गोपाल कृष्ण मिश्रा “वैद्य” से बातचीत की है। उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर संक्रमण रोकने की कई बातें बताई। बशर्ते कि इसका कोई साइड इफेक्ट न हो। वैसे भी बीमारी होने के पहले बचाव कर लिया जाए तो इससे बेहतर तरीका कुछ भी नहीं है। तो आइए जानते हैं वैद्यराज क्या बता रहे हैं-

वैद्य गोपाल कृष्ण मिश्र बताते हैं कि कोरोना आज पूरे विश्व में चुनौती बना हुआ है। यह जानलेवा रोग लाखों जिंदगियों को निगल चुका है। भारत भी इससे अछूता नहीं बचा है, किंतु अन्य देशों की तुलना में भारत में इस रोग का प्रभाव कमजोर दिख रहा है और इसका मूल कारण है, भारतीय संस्कृति, भारतीय जीवनशैली।

इस बीमारी की चिकित्सा अभी पूरे विश्व के लिए चुनौती बनी हुई है। इससे बचाव ही अत्यावश्यक है। इसके लिए सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों यथा- घर में रहना, अत्यावश्यक होने की हालत में मुंह पर मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलना, लोगों से कम से कम 3 फीट की दूरी बनाए रखना, किसी भी सामान को सेनेटाइज करने के बाद ही उपयोग में लाना, बार-बार साबुन पानी से हाथों को अच्छे से धोना, घर के बाहर आकर पहने हुए कपड़ों सहित साबुन से नहाना आदि सावधानियों का पालन करना चाहिए।

वैद्य गोपाल कृष्ण मिश्र ने कुछ टिप्स बताएं हैं जैसे- सूर्योदय से पहले जागना, जागने के बाद गर्म पानी पीना। इसके अलावा व्यायाम, योगासन, प्राणायाम करना इससे श्वसन तंत्र में एकत्रित कफ निकल जाता है तथा ब्लड फ्लो तीव्र होने से शरीर में स्फूर्ति आती है। पूरे शरीर में सरसों तेल की मालिश करनी चाहिए। मालिश से गर्म हुए शरीर को कुछ देर ठंडा होने के बाद हल्के गर्म जल से स्नान करना चाहिए।

सुबह एवं रात में एक-एक चम्मच च्यवनप्राश खाकर एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी चूर्ण मिलाकर पीना चाहिए। दूध में एक चुटकी सोंठ, मरीच या पीपल का चूर्ण मिलाकर भी पीया जा सकता है। तीन काली मिर्च, 10 पत्ती तुलसी और गुड़ को दिन में दो-तीन बार चबाना चाहिए। इस काढ़े को बनाने की सामग्री-

– तुलसी पत्ता 25 से 30
– हल्दी 1 ग्राम
– सोंठ 1 ग्राम
– काला मरीच 1 ग्राम
– पीपल 1 ग्राम
– लॉन्ग 1 ग्राम
– गूरिच 5 ग्राम

डॉ गोपाल कृष्ण मिश्रा “वैद्य”

इन सभी चीजों को पानी में कम से कम 15-20 मिनट तक उबालें और फिर छान लें। हल्का ठंडा होने पर इसे पिएं। यह आपकी इम्युनिटी को मजबूत करता है और वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है। इस काढ़ा को रोजाना पीना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डायबिटीज कंट्रोल करने में मदद करता है स्प्राउट्स, जानिये इसके अन्य फायदे
2 Uric Acid को कम करने में रामबाण हैं गर्मियों के ये फल, जानिये डाइट में शामिल करने का तरीका
3 थायरॉयड के मरीजों के लिए मददगार साबित हो सकते हैं ये डाइट टिप्स, जानिये
ये पढ़ा क्या?
X