ताज़ा खबर
 

क्या कोविड-19 डाल सकता है आपके थायरॉइड पर असर? ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान! जानिये

कोविड-19 को लेकर हाल ही में एक खुलासा हुआ है कि इसके कारण सबएक्यूट थायरॉयडिटिस बीमारी होने के आसार बढ़ जाते हैं। जानिए क्या होते हैं लक्षण-

मुंबई में एक हेल्थवर्कर को कोरोना वायरस का टीका लगाती चिकित्सक। (फोटो-पीटीआई)

कोरोनावायरस (Coronavirus) के नए-नए स्ट्रेन मिलने से दुनिया में हडकंप मचा हुआ है। साथ ही साइंटिस्ट भी काफी चिंतित हैं। वहीं, दूसरी ओर कोविड-19 को लेकर एक डराने वाली बात सामने आई है। दरअसल, ‘द जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंडोक्राइनोलॉजी एंड मेटाबोलिज्म’ में छपे एक लेख के मुताबिक, जिन्हें पहले कभी थायराइड (Thyroid) नहीं हुआ, कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद उनमें थायराइड की वायरल और पोस्ट वायरल बीमारी सब एक्यूट थायरॉयडिटिस के लक्षण पाए जा रहे हैं।

फोर्टिस अस्पताल में कार्यरत कंसलटेंट एंडोक्राइनोलॉजिस्ट डॉक्टर श्वेता बुदयाल (Doctor Shweta Budyal) ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में कहा, “कोविड-19 (Covid-19)  का पता लगाने के लिए थायराइड के लेवल को कम करना एक मार्कर के रूप में काम कर सकता है। इसलिए डॉक्टर्स को इस एडिशनल क्लिनिकल मेनिफेस्ट की संभावनाओं को लेकर सतर्क कर देना चाहिए।”

सबएक्यूट थायरॉयडिटिस के कारण और जोखिम: डॉक्टर बुदयाल के मुताबिक, “सबएक्यूट थायरॉयडिटिस का सबसे मुख्य लक्षण ग्लैंड में दर्द और सूजन होना होता है। यह दर्द आपको कुछ हफ्तों और महीनों तक भी रह सकता है। थायराइड हार्मोन के ज्यादा रिसाव के कारण इसके शुरुआती लक्षण, घबराहट, दिल की धड़कन का बढ़ना और गर्मी का बर्दाशत नहीं होना हो सकता हैं।

वहीं, बाद के लक्षणों की बात करें तो थकान, कब्ज या ठंड का बर्दाशत ना होना जैसी समस्याएं होने लगती हैं। हालांकि बाद में थायराइड ग्लैंड ठीक काम करना शुरू कर देता है, लेकिन इस बीमारी को हल्के में नहीं लेना चाहिए।”

 

क्या होता है सबएक्यूट थायरॉयडिटिस

सबएक्यूट थायरॉयडिटिस (Sub Acute Thyroiditis) को पोस्ट वायरल थायरॉयडिटिस भी कहा जाता है। इस बीमारी में थायराइड ग्लैंड पर सूजन आ जाती है, जिससे सांस लेने में काफी तकलीफ होती है। डॉक्टर के मुताबिक, सबएक्यूट थायरॉयडिटिस बीमारी मम्प्स वायरस, इन्फ्लूएंजा वायरस और दूसरे रेस्पिरेटरी वायरस से होती है।

सबएक्यूट थायरॉयडिटिस के लक्षण: इस बीमारी में गर्दन के आगे दर्द, थायराइड ग्लैंड पर हाथ के छूने से भी दर्द, बुखार, कमजोरी और थकान, घबराहट, गर्मी का बर्दाशत ना होगा, वजन का घटना, पसीने आना, डायरिया होना, झटके आना और धड़कन का बढ़ना जैसी समस्याएं होने लगती हैं। अगर कोविड-19 के कारण हुए सबएक्यूट थायरॉयडिटिस जल्द पकड़ में आ जाए, तो कॉर्टिकोस्टेरॉइड थेरेपी ऐसे लोगों के लिए काफी असरदार साबित हो सकती है।

Next Stories
1 हृदय रोग, मधुमेह समेत कई बीमारियों से बचाता है अंकुरित अनाज, जानिए क्या है स्प्राउट्स खाने का सबसे अच्छा समय
2 डायबिटीज के मरीजों के लिए घातक है ब्लड शुगर लेवल का बढ़ना, इन 5 आसान तरीकों से रखें इसपर कंट्रोल
3 रोज़ाना अंडे खाते हैं तो हो जाएं सावधान! बढ़ सकता है हृदय रोग का ख़तरा, जानिए कितना और कैसे करें अंडे का सेवन
ये पढ़ा क्या?
X