ताज़ा खबर
 

COVID-19: बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोना वायरस की आयुर्वेदिक दवा, इन जड़ी-बूटियों से मिलकर है बनी, जानें- क्या है खास

Coronavirus Ayurvedic Medicine: बालकृष्ण के अनुसार 'दिव्य कोरोनिल टैबलेट' में अश्वगंधा, गिलोय, अणु तेल, श्वसारि रस और तुलसी जैसी औषधिक जड़ी-बूटियों को मिलाया गया है

Coronavirus medicine, coronil, Coronavirus ayurvedic medicine, baba ramdevउनके मुताबिक कोरोना से संक्रमित जिन मरीजों पर इस दवा को लेकर क्लिनिकल ट्रायल हुए उनमें 100 प्रतिशत नतीजे देखने को मिले हैं

Coronavirus Medicine: कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से पूरी दुनिया प्रभावित हुई है। भारत में भी इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कोरोना पॉजिटिव के कुल मामले 4 लाख 40 हजार से भी अधिक हैं। हालांकि, इसमें एक्टिव केसेज से ज्यादा संख्या रिकवर हो चुके मरीजों की है। पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस घातक वायरस की दवा बनाने में अब तक सफल नहीं हो पाए हैं। इस बीच, बाबा रामदेव ने आज कोरोना वायरस के इलाज हेतु बनाई गई दवा ‘कोरोनिल’ को लॉन्च किया। बाबा रामदेव ने दावा किया है कि आयुर्वेदिक औषधि इस वायरस को खत्म करने में कारगर है। आइए जानते हैं-

दोपहर 12 बजे किया गया लॉन्च: इससे पहले आचार्य बालकृष्ण ने ट्वीट करके इस बारे में बताया था कि कोरोना की एविडेंस बेस्ड पहली आयुर्वेदिक औषधि कोरोनिल को साइंटिफिक डॉक्यूमेंट के साथ आज दोपहर 12 बजे लॉन्च किया जाएगा। हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ में होने वाले इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में बाबा रामदेव, आचार्य बालकृष्ण के अलावा जो वैज्ञानिक, शोधकर्ता और चिकित्सक दवा के ट्रायल में मौजूद थे वो भी शामिल हुए। बता दें कि इस आयुर्वेदिक दवा पर शोध पतंजलि रिसर्च इंस्टिट्यूट और जयपुर के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस ने मिलकर किया है।

इन जड़ी-बूटियों का है मिश्रण: बालकृष्ण के अनुसार ‘दिव्य कोरोनिल टैबलेट’ में अश्वगंधा, गिलोय, अणु तेल, श्वसारि रस और तुलसी जैसी औषधिक जड़ी-बूटियों को मिलाया गया है। उनके मुताबिक कोरोना से संक्रमित जिन मरीजों पर इस दवा को लेकर क्लिनिकल ट्रायल हुए उनमें 100 प्रतिशत नतीजे देखने को मिले हैं।

कोरोना पर पतंजलि की दवा और दावों की हमें जानकारी नहीं, ब्योरा मँगवाया है- आयुष मंत्रालय का बयान

5 से 14 दिनों में ठीक होगा संक्रमण: उन्होंने दावा किया है कि इस दवा के सेवन से कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज 5 से 14 दिनों के भीतर स्वस्थ हो जाएंगे। बालकृष्ण के मुताबिक कोरोनिल दवा का सेवन सुबह और शाम में एक-एक बार किया जा सकता है। उनके अनुसार इस दवा में मौजूद अश्वगंधा इस वायरस के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन को बॉडी के एंजियोटेंसिन कनवर्टिंग एंजाइम में मिलने से रोकता है। वहीं, गिलोय भी इंफेक्शन को कम करने में मददगार है।

कोरोनिल और श्‍वसारि वटी: आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि मार्केट में ‘दिव्‍य कोरोनिल टैबलेट’ मंगलवार से मिलनी शुरू हो जाएंगी। बता दें कि इस दवा का निर्माण हरिद्वार की दिव्‍य फार्मेसी और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड कर रही है। इस टैबलेट के साथ ही कंपनी श्‍वसारि वटी टैबलेट भी लोगों के लिए उपलब्ध कराएगी। ये टैबलेट शरीर में बलगम नहीं बनने देती, साथ ही पहले से मौजूद बलगम को कम करके फेफड़ों में हुए सूजन को कम करती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डायबिटीज में फायदेमंद है मेथी के पत्तों का सेवन, जानिये और किस तरह से कर सकते हैं इस्तेमाल
2 Solar Eclipse 2020: ग्रहण से निकलने वाली किरणें, खाने को कर देती हैं दूषित… इसलिए इस दौरान भूलकर भी ना करें खाने का सेवन
3 Fatty Liver: इन 5 तरीकों से कर सकते हैं फैटी लिवर को कम, जानिये…