ताज़ा खबर
 

Coronavirus: कोरोना वायरस की वैक्सीन बनने में क्यों हो रही है देरी, कब तक मार्केट में आ जाएगा टीका? जानिए

Coronavirus in India: WHO समेत तमाम देशों के वैज्ञानिक और संस्थान कोरोना वायरस की वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) बनाने में जुटे हैं। हालांकि अभी तक किसी को भी सफलता नहीं मिल पाई है।

coronavirus, coronavirus india, coronavirus update, coronavirus vaccine, coronavirus symptoms, corona symptoms, coronavirus cure, coronavirus india, coronavirus india count, coronavirus india death, coronavirus india live, coronavirus india status, coronavirus india update latest, coronavirus india death toll, coronavirus india death case, coronavirus india death today, coronavirus india death 10, coronavirus india death age, coronavirus india death in hindiकोरोना वायरस की वैक्सीन बनने में क्यों देरी हो रही है

Coronavirus in India: कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर बढ़ता ही जा रहा है। अब दुनिया के करीब 190 देश इस वायरस की जद में हैं। अब तक दुनिया भर में साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोग COVID-19 से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 16 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। भारत में भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। मंगलवार को कुल पॉजिटिव केसेज की संख्या बढ़कर करीब 500 हो गई, जबकि 10 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

कोरोना वायरस को लेकर खौफ के माहौल के बीच कहीं लॉक डाउन, कहीं बैन तो कहीं जागरुकता के जरिये इससे निपटने का प्रयास किया जा रहा है। इस बीच WHO समेत तमाम देशों के वैज्ञानिक और संस्थान कोरोना वायरस की वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) बनाने में जुटे हैं। हालांकि अभी तक किसी को भी सफलता नहीं मिल पाई है। ‘The Guardian’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर की कम से कम 35 कंपनियां और एकेडमिक इंस्टीट्यूट्स वैक्सीन बनाने के काम में लगे हैं।

वैक्सीन आने में क्यों हो रही है देरी?

दुनिया के तमाम देशों के वैज्ञानिक कोरोना वायरस की वैक्सीन इजाद करने में जुटे हैं और क्लिनिकल ट्रायल का दौर जारी है। हालांकि यह एक लंबी प्रक्रिया है, जिसमें कई महीनों का वक्त लगता है। किसी भी वैक्सीन का पहले जानवरों पर परीक्षण होता है और फिर मानव पर। कोरोना वायरस के वैक्सीन की बात करें तो कई देशों में जानवरों पर क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा है। पिछले हफ्ते अमेरिका में मानव पर भी वैक्सीन के ट्रायल की खबर आई थी।

कब तक मार्केट में आएगी वैक्सीन? विशेषज्ञों का कहना है कि क्लिनिकल ट्रायल में यदि वैक्सीन सफल रहती है और इसके सकारात्मक नतीजे दिखते हैं तो भी वैक्सीन के मास प्रोडक्शन में 8-10 महीने का वक्त लग सकता है। कहने का मतलब यह है कि सब कुछ ट्रायल के उपर निर्भर है। अगर अगले कुछ हफ्तों के अंदर क्लिनिकल ट्रायल सफल रहा तो मार्केट में आठ से दस महीने के अंदर COVID-19 का टीका आ सकता है। उधर, BBC की एक रिपोर्ट में वैज्ञानिकों के हवाले से दावा किया गया है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन आने में साल भर का वक्त लग सकता है।

वैक्सीन के बिना दूसरा रास्ता क्या?  विशेषज्ञों का कहना है कि जब तक कोरोना वायरस का टीका ईजाद नहीं हो जाता है, तब तक मानव स्वभाव में परिवर्तन यानी बिहैवियर चेंज ही इससे निपटने का एकमात्र रास्ता दिखाई दे रहा है। उदाहरण के तौर पर आइसोलेशन, सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई जैसे तमाम उपायों का कड़ाई से पालन करना ही होगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus: इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खाएं ये लड्डू, जानें क्या है बनाने का तरीका
2 Coronavirus से बचने के लिए कौन से फल और सब्जियां खानी चाहिए, जानिये…
3 Health Horoscope Today, 24 March 2020: धनु राशि वाले शारीरिक रूप से परेशान हो सकते हैं, वहीं वृषभ वाले आज बिल्कुल स्वस्थ रहेंगे
यह पढ़ा क्या?
X