ताज़ा खबर
 

कोलेस्ट्रॉल कम करने की दवा का करती हैं सेवन तो कम होगा ब्रीस्ट कैंसर का खतरा

रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने के लिए लोग तमाम तरह की दवाओं का भी प्रयोग करते हैं। इनमें एक दवा स्टैटिन काफी इस्तेमाल में लाई जाती है।

जो महिलाएं कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए स्टैटिन का सेवन करती हैं उनमें ब्रीस्ट कैंसर का खतरा कम हो जाता है।

हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बनना बेहद जरूरी है। शरीर में इसका निर्माण लीवर द्वारा किया जाता है। रक्त में कोलेस्ट्रॉल अगर ज्यादा मात्रा में हो जाए तो यह रक्त प्रवाह में बाधा उत्पन्न करता है जिससे शरीर के सभी अंगों तक रक्त नहीं पहुंच पाता औक कई तरह की शारीरिक समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं। ऐसे में इसे कम करना बहुत जरूरी हो जाता है। रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने के लिए लोग तमाम तरह की दवाओं का भी प्रयोग करते हैं। इनमें एक दवा स्टैटिन काफी इस्तेमाल में लाई जाती है। एक शोध के दौरान यह बात सामने आई है कि जो महिलाएं कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए स्टैटिन का सेवन करती हैं उनमें ब्रीस्ट कैंसर का खतरा कम हो जाता है।

शोध में बिना हाई कोलेस्ट्रॉल वाले लोगों की तुलना हाई कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों से की गई, जिसमें यह बात सामने आई है कि जो लोग हाई कोलेस्ट्रॉल पेशेंट थे उनमें ब्रीस्ट कैंसर का खतरा 45 प्रतिशत तक कम पाया गया। अगर इन लोगों में ब्रीस्ट कैंसर की समस्या आती भी है तो इस बीमारी से मरने का खतरा भी काफी कम होता है। इससे यह साफ जाहिर होता है कि स्टैटिन में ब्रीस्ट कैंसर से लड़ने वाले तत्व पाए जाते हैं जो उसके प्रभाव को काफी हद तक रोकने में सफल भी होते हैं।

शोध में 40 साल तथा उससे ज्यादा की उम्र के तकरीबन 1.2 मिलियन लोगों के समूह को शामिल किया था। इनमें वे लोग भी शामिल थे जो हाई कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित थे तथा वो लोग भी शामिल थे जो इससे पीड़ित नहीं थे। दोनों में ब्रीस्ट कैंसर के विकास का अध्ययन करने के बाद यह पता लगाया गया कि जिन महिलाओं को हाई कोलेस्ट्रॉल की शिकायत थी उनमें ब्रीस्ट कैंसर के खतरे कम थे। साथ ही साथ उनमें स्तन कैंसर की वजह से होने वाली मृत्यु-दर में भी कमी देखी गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App