ताज़ा खबर
 

डायबिटीज से लेकर दिल की बीमारियों तक का खतरा कम करने में मददगार है चिया सीड्स, यूं करें डाइट में शामिल

Chia Seeds Health Benefits in Hindi: चिया सीड्स में कई एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं और यह ओमेगा -3 फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत है

health, good health, chia seeds, diabetes, blood pressureचिया सीड्स को डाइट में शामिल करने से हृदय रोग का खतरा कम होता है

Chia Seeds Health Benefits: स्मूदी के टेक्सचर और स्वाद को बढ़ाने में चिया सीड्स की भूमिका अहम होती है। केवल इतना ही नहीं, स्वाद के साथ सेहत की दृष्टि से भी चिया सीड्स का सेवन फायदेमंद माना जाता है। आमतौर पर लोग इनका सेवन स्मूदी में डालकर ही करते हैं, लेकिन पानी में इसे मिलाकर खाने से भी स्वास्थ्य लाभ होते हैं। चिया सीड्स में प्रोटीन और ओमेगा-3 फैटी एसिड्स होते हैं। साथ ही, इसमें फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट के अलावा और भी कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत के साथ वजन कम करने में भी मददगार हैं। आइए जानते हैं इन बीजों की खासियत –

डायबिटीज: मधुमेह एक जीवन-शैली से जुड़ी बीमारी है जिसमें शरीर का मेटाबॉलिक रेट नकारात्मक तरीके से प्रभावित होता है। एक शोध के अनुसार चिया सीड्स में जो ऑयल पाए जाते हैं, वो मेटाबॉलिक कारकों को बेहतर करने में मददगार है। इसके साथ ही ब्लड शुगर के स्तर को काबू में रखने में भी चिया सीड्स का सेवन फायदेमंद है।

हृदय रोग: चिया सीड्स को डाइट में शामिल करने से हृदय रोग का खतरा कम होता है। इनमें फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो दिल को सेहतमंद रखने में मददगार माना जाता है। इसके साथ ही ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने में भी चिया सीड्स कारगर है। ऐसे में जो लोग चिया सीड्स खाते हैं, उन्हें हाइपोटेंशन यानि कि निम्न रक्तचाप का खतरा भी कम होता है।

वेट लॉस: चिया सीड्स भूख को रोकने में मदद करता है और वजन घटाने को बढ़ावा देता है। चिया सीड्स में फाइबर उच्च मात्रा में होता है इसलिए वह आपके पेट को लंबे समय भरा रखता है। यही कारण है कि यह ओवर ईटिंग को रोकने में भी मदद कर सकता है। साल 2015 में हुए एक शोध के अनुसार रोजाना 30 ग्राम फाइबर खाने से आपको अधिक वजन कम करने में मदद मिल सकती है। चिया सीड्स में कैलोरी और फैट कम मात्रा में होते हैं।

चिया सीड्स में कई स्वास्थ्य संबंधी गुण पाए जाते हैं। प्रोटीन और एसेंशियल अमीनो एसिड्स से भरपूर इन बीजों को खाने से सूजन, नस संबंधी बीमारियां और इम्युन डेफिशियंसी से होने वाली बीमारियों का खतरा कम होता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूरिक एसिड के बढ़ते स्तर से हैं परेशान? इन 4 फलों के सेवन गाउट के मरीजों को मिलेगा आराम
2 Covid-19: महीनों तक नजर आ सकते हैं व्यक्ति में कोरोना वायरस के लक्षण: एक्सपर्ट्स
3 बदलते मौसम में वायरल-फ्लू का खतरा होता है ज्यादा, इन 5 घरेलू उपाय से दूर होंगे फ्लू के लक्षण
ये पढ़ा क्या?
X