हाई यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में कारगर है अजवाइन, बस इस तरह करें सेवन

शरीर के जोड़ों में यूरिक एसिड की अधिकता होने से गाउट नामक बीमारी हो जाती है। इसके अलावा हाई बीपी, डायबिटीज, मोटापा, किडनी रोग और हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है।

Religion News, High Uric Acid, Home Remedies For High uric Acid
यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में कारगर है अजवाइन

बढ़ा हुआ यूरिक एसिड कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। वर्तमान समय में खराब जीवनशैली और अनहेल्दी खानपान के कारण लोग ऐसी बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं, जो पहले उम्रदराज लोगों को हुआ करती थीं। ऐसी ही एक स्वास्थ्य समस्या है हाई यूरिक एसिड की। आज केवल बुजुर्ग ही नहीं बल्कि युवा भी हाई यूरिक एसिड की समस्या से परेशान है। यूरिक एसिड एक तरह का केमिकल है, जो खून के जरिए किडनी तक पहुंचता और फिल्टर होने के बाद मूत्र मार्ग के जरिए बाहर निकल जाता है।

लेकिन शरीर के जोड़ों और टिश्यूज में यूरिक एसिड की अधिकता होने से गाउट नाम की बीमारी हो जाती है। इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, मोटापा, किडनी रोग और हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। साथ ही हाई यूरिक एसिड के कुछ मरीजों को उठने-बैठने और दैनिक कार्यों को करने में तकलीफ का सामना भा करना पड़ता है। यूरिक एसिड के मरीजों के लिए अजवाइन का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। तो आइये जानते हैं कि यूरिक एसिड के मरीज किस तरह से अजवाइन को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं-

अजवाइन: अजवाइन में उच्च मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड मौजूद होता है, जो यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में मदद करता है। इसके अलावा अजवाइन में फॉस्फोरस, कॉपर, मैंगनीज, आयरन, कोबाल्ट, आयोडिन, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बायोटिक गुण मौजूद होते हैं, जो दर्द और सूजन की समस्या को कम करते हैं। इसलिए हेल्थ एक्सपर्ट्स भी यूरिक एसिड के मरीजों को अपनी डाइट में अजवाइन को शामिल करने की सलाह देते हैं।

इस तरह करें अपनी डाइट में शामिल: हाई यूरिक एसिड के मरीज अलग-अलग तरीकों से अजवाइन को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। आप चाहें तो खाने में डालकर या फिर काढ़े के रूप में अजवाइन का सेवन कर सकते हैं। काढ़ा बनाने के लिए आधा लीटर पानी में 1 चम्मच अजवाइन और एक चम्मच हल्दी डालकर गैस पर चढ़ाएं।

जब यह पानी आधा हो जाए तो इसमें एक नींबू का रस, एक टेबलस्पून सेब का सिरका, चुटकी भर काला नमक और 1 चम्मच शहद मिला लें। फिर गुनगुना ही इसका सेवन करें। नियमित तौर पर इस काढ़े का सेवन करने से यूरिक एसिड को काबू में रखा जा सकता है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
कुंवारे नहीं बल्कि शादीशुदा लोग ज्यादा कर रहे हैं खुदकुशी: NCRBSuicide, Wedding, Married People, Unmarried people
अपडेट