scorecardresearch

Diabetic Kidney: देश में तेजी से बढ़ रहे हैं डायबिटिक किडनी डिजीज के मामले, जानिए क्या हैं लक्षण

Diabetic Kidney: मधुमेह किडनी को भी प्रभावित करता है। इसलिए जरूरी है कि समय रहते डायबिटीज का इलाज शुरू कर दिया जाए ताकि इसे नियंत्रित किया जा सके।

Diabetic Kidney: देश में तेजी से बढ़ रहे हैं डायबिटिक किडनी डिजीज के मामले, जानिए क्या हैं लक्षण
जानिए क्या है डाबिटिक किडनी डिजीज (इमेज: canva)

मधुमेह को साइलेंट किलर के रूप में जाना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो हमारी जीवनशैली को पूरी तरह से बदल देती है। समय रहते इस पर काबू नहीं पाया गया तो दूसरी बीमारियों का खतरा भी तेजी से बढ़ता है।मधुमेहइसका असर किडनी पर भी पड़ता है। लगभग एक तिहाई मधुमेह रोगी गुर्दे की बीमारी विकसित करते हैं। इसलिए जरूरी है कि समय रहते मधुमेह का इलाज शुरू कर दिया जाए ताकि इसे नियंत्रित किया जा सके।

ओनली माय हेल्थ से जारी एक समाचार के अनुसार, टाइप 1 मधुमेह आमतौर पर गुर्दे की गंभीर क्षति का कारण बनता है और मधुमेह की शुरुआत के लगभग पांच साल बाद शुरू होता है। अगर समय रहते उचित उपाय किए जाएं तो किडनी को सुरक्षित रखा जा सकता है। लेकिन उसके लिए जीवनशैली और नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

कैसे मधुमेह किडनी डिजीज का कारण बनता है?

हाई ब्लड शुगर यानी डायबिटीज किडनी की रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है। जब रक्त वाहिकाएं कमजोर या क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, तो गुर्दे ठीक से काम करना बंद कर देते हैं। यह पूरे शरीर के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। मधुमेह भी उच्च रक्तचाप के खतरे को कई गुना बढ़ा देता है। उच्च रक्तचाप और मधुमेह के संयोजन से गुर्दे की गंभीर क्षति हो सकती है।

Blood Sugar: यदि आप को ये 3 लक्षण दिख रहे है तो, आप हो सकते हैं शुगर के शिकार

डायबिटिक किडनी डिजीज के रिस्क फ़ैक्टर्स

मधुमेह के गुर्दे की बीमारी में योगदान देने वाले कई कारक हैं। इस बीमारी के जोखिम कारकों में मोटापा, धूम्रपान, उच्च रक्तचाप, नमकीन खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन, हृदय रोग होना, गुर्दे की बीमारी का पारिवारिक इतिहास और अनियंत्रित रक्तचाप शामिल हैं।

मधुमेह गुर्दे की बीमारी के लक्षण

मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिसके आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं। यह जानकारी ब्लड टेस्ट के जरिए ही मिल सकती है। डायबिटिक किडनी डिजीज के लक्षणों का पता तब तक नहीं चलता जब तक कि 80 प्रतिशत तक किडनी खराब न हो जाए। कभी-कभी यह मूत्र में एल्ब्यूमिन के रिसाव के कारण देखा जाता है। यदि परीक्षण और उपचार में देरी की जाए तो ये लक्षण और गंभीर हो सकते हैं। अन्य लक्षणों में जल्दी थकान, रात में बार-बार पेशाब आना, भूख न लगना, ज्यादा मेहनत वाला काम करने में कठिनाई, सांस लेने में तकलीफ, मांसपेशियों में दर्द, पेशाब का पीला होना शामिल हैं। विशेषज्ञों के अनुसार कई बार डायबिटिक किडनी डिजीज के लक्षण आंखों के आसपास भी दिखाई देने लगते हैं। जैसे-जैसे मधुमेह बढ़ता है, आंखों में सूजन आने लगती है। ऐसा होने पर देखा जाता है कि किडनी पर भी असर पड़ता है।

मधुमेह किडनी रोग से कैसे बचा जा सकता है?

मधुमेह के गुर्दे की बीमारी को रोकने के लिए रक्तचाप को नियंत्रित करें और उच्च रक्त शर्करा के स्तर को रोकें। साथ ही कोलेस्ट्रॉल लेवल को भी कंट्रोल में रखें। स्वस्थ आहार लें और तनाव से दूर रहें। साथ ही नियमित रूप से मधुमेह की जांच कराएं और अपना वजन नियंत्रण में रखें। मीठा और तैलीय खाना खाने से बचें।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 22-01-2023 at 06:21:00 pm
अपडेट