ताज़ा खबर
 

सोते समय भी काम करता रहता है शरीर का यह अंग!

हाल ही में किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि जब भी आप सोते हैं तो आपके शरीर का एक अंग सक्रिय रहता है।

Author नई दिल्ली | November 29, 2018 12:20 PM
प्रतीकात्मक चित्र।

जब भी हम सोते हैं और गहरी नींद में होते हैं तो हम अक्सर सोचते हैं कि हमारे शरीर के सभी अंग और हमारी सभी इंद्रियां भी सो जाती हैं और काम करना बंद कर देती हैं। हालांकि ऐसा नहीं है। आपके सोने के बाद भी शरीर का एक अंग सक्रिय रहता है। नए शोध में यह बात साबित हुई है। यह अंग आपका कान है जो आपके सोते वक्त भी काम करता है और आपको आवाजें सुनाई दे सकती हैं।

टेनेसी के नैशविले में ‘वेंडरबिल्ट विश्वविद्यालय’ के शोधकर्ताओं ने पाया है कि जब आप सोते हैं, तब भी शरीर का वह हिस्सा जो सक्रिय रहता है, वह कान है। कभी-कभी आपको सुबह उठने के बाद वो चीजें याद रहती हैं जो आप सोते समय महसूस करते हैं या सुनाते हैं। हालांकि कभी-कभी आपको कुछ चीजें साफ तौर पर याद नहीं रहती हैं। इसका एकमात्र कारण यह है कि मस्तिष्क आपके सोने के बाद कान द्वारा भेजी गई किसी भी बाहरी जानकारी को अस्वीकार कर देता है।

शोधकर्ताओं ने प्रीस्कूल आयु वाले सोते हुए बच्चों पर यह अध्ययन किया। एक प्रेस विज्ञप्ति में शोध के सह-लेखक एड्रियान रोमन ने कहा, “जिस तरह के पर्यावरण में बच्चे सोते हैं, हाल के वर्षों में वह बातचीत का विषय रहा है। लेकिन प्रीस्कूल आयु वाले बच्चों पर हो रही चर्चा में एक चूक है जो हमारी बातचीत का केंद्र बिंदु था।”

अध्ययन के दौरान, सोते समय बच्चों को एक पोर्टेबल ईईजी मशीन से जोड़ा गया और फिर उनके चारों ओर कुछ सामान्य शब्द प्ले किये गये। बच्चों को जागने के बाद फिर से ईईजी मशीन से जोड़ा गया और उन्हें फिर से कुछ शब्द सुनाए गए जिनमें पहले इस्तेमाल किए गए शब्द भी शामिल थे। जब बच्चों ने फिर से पहले वाले शब्दों को सुना तो उनके मस्तिष्क ने सकारात्मक संकेत दिखाए, जिससे यह पता चला कि वे इन टेस्ट साउंड्स को पहचानने में सक्षम थे।

अनुसंधान के बारे में आगे बात करते हुए रोमन ने कहा, “शोध का लक्ष्य यह समझना है कि बच्चों का दिमाग कैसे विकसित होता है और क्या वो सोते समय जानकारी रजिस्टर कर रहे हैं।”

इसके अलावा, शोध में यह भी पाया गया है कि हम सोते समय अगर हम हल्की नींद में होते हैं तो उस वक्त जो चीजें हम सुनते हैं उन्हें हमारा दिमाग प्रोसेस कर लेता है और सपनें बनाने के लिए उन शब्दों का इस्तेमाल करता है। हालांकि हमें अगले दिन वह सभी चीजें याद रहें, ऐसा जरुरी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App