क्या चाय या कॉफी पीने से बढ़ सकता है ब्लड शुगर? एक्सपर्ट्स से जानिए फायदे और नुकसान

हर व्यक्ति के लिए पर्याप्त पानी का सेवन बेहद जरूरी है। जो लोग दिनभर में पर्याप्त पानी पीते हैं, उन लोगों का ब्लड शुगर (Blood Sugar) लेवल कंट्रोल में रहता है।

coffee, chewing gum, what not to eat early in the morning
सुबह खाली पेट कॉफ़ी आदि के सेवन से बचना चाहिए (Photo-Unsplash/Indian Express)

आमतौर पर लोगों की शुरुआत चाय या कॉफी से होती है। कई लोगों को इसके बिना दिन की शुरुआत करने में मुश्किलें आती हैं। अगर हाल ही में आपने गौर किया हो तो आजकल लोग पहले के मुकाबले ज्यादा कॉफी या चाय पीने लगे हैं। लेकिन अगर आप एक डायबिटीक मरीज हैं तो आपको सावधान रहने की जरूरत है। डायबिटीज से ग्रसित व्यक्ति को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, इस बारे में बहुत सावधानी बरतनी चाहिए।

डायबिटीज वाले मरीजों को अपनी डाइट में उन फूड्स को शामिल करना चाहिए जो प्राकृतिक रूप से ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। कई फूड्स हैं जो आपके ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकते हैं और डायबिटीज को कंट्रोल करना मुश्किल बना सकते हैं। कई अधय्यनों में ये बात सामने आई है कि एक कप कॉफी या चाय पीने से तनाव और कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। साथ ही वजन घटाने में मदद मिलती है। आइये जानते हैं क्या कॉफी या चाय डायबिटीज के मरीजों के लिए सुरक्षित हैं।

अमेरिका में शोध के मुताबिक कॉफी पीने वालों में टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा कम हो जाता है। यदि आपको पहले से ही डायबिटीज है, तो इसका प्रभाव एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग हो सकता है। कुछ का सकारात्मक प्रभाव हो सकता है जबकि अन्य ब्लड शुगर के स्तर में वृद्धि का अनुभव कर सकते हैं।

वहीं सर्दियों में ठंड से बचने के लिए मधुमेह से ग्रसित व्यक्ति यह सोचकर फीकी चाय पिए जा रहा है कि ब्लड शुगर हाई नहीं होगी तो गलत सोच रहा है। चाय में मिला हुआ दूध और दूसरे तत्व उसके ब्लड शुगर के स्तर को हाई कर देंगे। खाने के फौरन बाद चाय और कॉफी पीने से कैफीन आयरन तत्व पर बुरा प्रभाव डालता है। इससे आयरन एब्जार्ब नहीं होता और हीमोग्लोबिन कम होने लगता है। ऐसे में हमारे मन में यह उचित प्रश्न उठता है कि कौन सी चाय हमारी सेहत के लिए सबसे अधिक फायदेमंद है?

वैज्ञानिक के हवाले से बात सामने आयी है कि दिन में तीन से चार कप चाय पीना पानी पीने से बेहतर विकल्प है, क्योंकि चाय शरीर को एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करती है जो कि हमारी कोशिकाओं से फ्री रेडिकल्स को हटाते हैं और ऑक्सीकरण से होने वाले नुकसान को रोकते हैं। ऐसे में हमें अदरक, नींबू, इलायची और मसाला चाय जैसा कि नाम से पता चलता है, यह इलायची, अदरक, दालचीनी और काली मिर्च सहित विभिन्न भारतीय मसालों और जड़ी-बूटियों से मिश्रित चाय पीनी चाहिए।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
नवरात्र में कैसे करे रंगों का चुनाव?
अपडेट