ब्लड शुगर बढ़ने पर नर्वस सिस्टम हो सकता है डैमेज, ऐसे करें कंट्रोल

शरीर में उच्च ब्लड शुगर की मात्रा लुमेन को पतला कर देता है, जिसके कारण खून का सर्कुलेशन प्रभावित होता है। यह दिल से ब्लड की होने वाली सप्लाई को भी रोकता है।

blood sugar, high blood sugar, normal blood sugar level
डायबिटीज रोगियों को अपने ब्लड शुगर लेवल पर निगरानी रखना अति आवश्यक होता है. (File Photo)

दुनिया भर में लोग डायबिटीज परेशान हैं। WHO के मुताबिक भारत में लगभग 42 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। इसीलिए भारत को डायबिटीज का राजधानी भी कहा जाता है। शरीर में वैसे तो किसी की भी अधिकता खतरनाक हो सकती है। लेकिन शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ने से कई तरह की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। खून में शुगर की उच्च मात्रा शरीर के हर अंग पर प्रभाव डालती है। ऐसा नहीं है ब्लड शुगर लेवल बढ़ने से केवल डायबिटीज और दिल से संबंधित बीमारी ही होंगी, बल्कि, यह आपके पाचन तंत्र, नर्वस सिस्टम और ब्लड सर्कुलेशन पर भी असर डालता है।

उम्र बढ़ने के साथ ज्यादातर लोग नर्व्स (तंत्रिकाओं) से जुड़ी परेशानियों की शिकायत भी बढ़ने लगती है। आजकल लगातार कंप्यूटर पर काम करने और मोबाइल चलाने के कारण लोग गर्दन की नसों में और हाथों की नसों में दर्द की शिकायत करते हैं। यह सब तो डैमेज (Nerve damage) होने की शुरुआत है। लेकिन ब्लड शुगर बढ़ने से यह आपके नर्व्स (Nerves) को डैमेज करके आपको कई गंभीर बीमारियों का शिकार बना सकती है।

नॉर्मल रेंज: शरीर में ब्लड शुगर का नॉर्मल लेवल (फास्टिंग के दौरान यानी आठ घंटे या उससे अधिक समय से कुछ भी ना खाया हो) 70-99 mg/dl के बीच माना गया है। वहीं, अगर दो घंटे पहले व्यक्ति ने कुछ ना खाया हो, तो ब्लड शुगर लेवल की मात्रा बढ़कर 140 mg/dl हो जाती है। अगर ब्लड शुगर का लेवल 200 से 400 के बीच होता है, तो यह स्थिति खतरनाक हो सकती है। इसमें दिल का दौरा और ब्रेन स्ट्रोक की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

शरीर में बढ़ता ब्लड शुगर का स्तर दिल के साथ ही आपके दिमाग पर भी असर डालता है। यह नर्व्स को डैमेज कर, पेरिफेरल न्यूरोपेथी के खतरे को बढ़ाता है, जिससे हाथ-पैर और उंगलियों मे तेज दर्द होने लगता है और वह सुन्न हो जाती हैं।

ऐसे करें कंट्रोल: दरअसल मोटापा कोलेस्ट्रोल बढ़ने से होता है। कोलेस्ट्रोल बढ़ने से हाइपरटेंशन बढ़ता है और आपके नर्व्स की कवरिंग डैमेज होने लगती है। जिससे ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है। इसलिए अगर आपको नर्व्स को हेल्दी रखना है तो, आप अपना वजन नियंत्रित करने की अवश्य कोशिश करें। इसके आलावा बता दें कि डायबिटीज के मरीजों में नर्व्स की कवरिंग डैमेज हो जाती है।

ऐसे में इस कवरिंग को हेल्दी रखने के लिए आपको सबसे पहले डायबिटीज कंट्रोल करने पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए ब्लड शुगर कंट्रोल करने की कोशिश और इसके लिए अपनी डाइट में हेल्दी बदलाव करें। इसके साथ ही स्लीप साइकिल सही करें और प्रदूषण से दूर रहें। साथ ही विटामिन डी और विटामिन बी 12 से भरपूर दूध, सीड्स और सी फूड्स जैसे चीजों का सेवन करें।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट