ताज़ा खबर
 

डायबिटीज के मरीजों के लिए रामबाण है काला लहसुन, जानिये क्या है इसे घर पर बनाने का तरीका

Diabetes Home Remedies: डायबिटीज के मरीजों की इम्यूनिटी दूसरों की तुलना में कमजोर होती है, ऐसे में ब्लैक गार्लिक खाने से लोगों का इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा

diabetes, diabetes patients in inida, diabetes causes, diabetes precautions, home remedies to control diabetes, black garlic, black garlic benefit, black garlic health benefit, black garlic for diabetes, how to make black garlic at home, tips for diabetic patients, how to control diabetes, type1 diabetes, type2 diabetes, healthy diet for diabetes patients, exercise for diabetes patients, diabetes patients eating tips, blood sugar level, genetic reason for diabetes, overweight leads to diabetesअपनी डाइट में नियमित रूप से काला लहसुन शामिल करने से ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है

Diabetes Home Remedies: रसोई में लहसुन के इस्तेमाल से तो सब परिचित हैं। स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के इलाज में भी लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है। सफेद लहसुन के समान ही काले लहसुन का उपयोग भी बहुत फायदेमंद माना जाता है। वैसे लोग जो स्ट्रॉन्ग स्मेल व टेस्ट के कारण सफेद लहसुन के सेवन से परहेज करते हैं, उनके लिए ‘ब्लैक गार्लिक’ बेहतर ऑप्शन हो सकता है। जर्नल ऑफ फूड एंड ड्रग एनालिसिस के अनुसार सफेद लहसुन की तुलना में काले लहसुन में एलिसिन की मात्रा कम होती है जिस वजह से उसका स्वाद अलग होता है। डायबिटीज के मरीजों के लिए भी इसका सेवन फायदेमंद हो सकता है।

ब्लड शुगर को करता है नियंत्रित: डायबिटीज के मरीजों को अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक सचेत रहने की जरूरत है। ऐसे में दवाइयों के साथ ही खाने-पीने पर ध्यान देना भी आवश्यक है। काला लहसुन खाने से डायबिटीज को कंट्रोल में रखने में मदद मिलती है। अपनी डाइट में नियमित रूप से इसका सेवन करने से ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। काले लहसुन में एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। डायबिटीज के मरीजों की इम्यूनिटी दूसरों की तुलना में कमजोर होती है। ऐसे में ब्लैक गार्लिक खाने से लोगों का इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा। वहीं, इसके एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण डायबिटीज के मरीजों में घाव की समस्या को भी कम करते हैं।

घर पर ऐसे बनाएं: घर पर काले लहसुन को बनाना कोई मुश्किल काम नहीं है। आप इसे बनाने के लिए आप ताजे यानि कि सफेद लहसुन ले लें। अब इसे 60 डिग्री तापमान पर 2 से 3 हफ्तों तक रखें। ब्लैक गार्लिक नॉर्मल गार्लिक को फर्मेंट करके बनाया जाता है। फर्मेंटेशन के कारण इस लहसुन का स्वाद मीठा हो जाता है।

ये भी हैं फायदे: काला लहसुन फर्मेंटेशन के बाद और भी ज्यादा कारगर हो जाता है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट, पॉलिफेनॉल, फ्लेवोनाइड और अल्कलाइन प्रॉपर्टीज मौजूद हैं जो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं। इसके अलावा, 2018 में हुए एक अध्ययन के अनुसार  काला लहसुन दिल के रोगों को खत्म करने में कारगर है। वहीं, नियमित रूप से काले लहसुन का सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारी से लड़ने में भी मदद मिलती है। शरीर में खून के संचार से लेकर इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में भी मददगार है काले लहसुन का उपयोग।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूरिक एसिड को कम करने में कारगर हैं एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर फूड्स, प्यूरीन के स्तर को रखते हैं नॉर्मल
2 थायरॉयड के कारण महिलाओं में समय से पहले आते हैं मेनोपॉज के लक्षण, जानें शरीर में और क्या होते हैं बदलाव
3 COVID-19: बोलने में दिक्कत भी कोरोना वायरस का लक्षण, जानिए WHO ने और क्या कहा…
यह पढ़ा क्या?
X