ताज़ा खबर
 

Uric acid control: भुजंगासन से यूरिक एसिड के कारण होने वाली बीमार‍ियों में भी मिलता है फायदा, जानें कैसे करें

Uric acid foods, diet, workout, yoga, symptoms, treatment, prevention: योगा यूरिक एसिड की समस्या को कम करने के साथ-साथ और भी कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। इसका रोजाना अभ्यास जरूर करें।

Author Published on: September 18, 2019 1:24 PM
Uric acid control: यूरिक एसिड कम करने के लिए योगा करें

Uric acid prevention, symptoms, diet, yoga, exercise, causes: यूरिक एसिड एक केमिकल (अपशिष्ट उत्पाद) है जो शरीर में प्यूरीन के अंतिम ऑक्सीकरण(ब्रेकडाउन) द्वारा निर्मित होता है। यह ब्लड में ले जाया जाता है और मूत्र के माध्यम से किडनी द्वारा उत्सर्जित होता है। शरीर में यूरिक एसिड का निर्माण काफी सामान्य है क्योंकि यह फूड मेटाबॉलिज्म में एक आवश्यक पदार्थ है। यूरिक एसिड एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करने के लिए जाना जाता है और हमारे रक्त वाहिकाओं के अस्तर को नुकसान से बचाने में मदद करता है। लेकिन, ब्लड में यूरिक एसिड का उच्च स्तर हानिकारक हो सकता है। यूरिक एसिड का स्तर सही डाइट, वॉक, स्वीमिंग और योग जैसे व्यायाम की मदद से कम किया जा सकता है।

योग तीन तरीकों से यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है:

1. वजन नियंत्रण करता है: योगा आसानी से वजन कम करने में मदद कर सकता है। यदि आप बहुत तेजी से वजन कम करते हैं तो प्यूरिन्स आपके जोड़ों को प्रभावित कर सकते हैं। इस वजह से आपके लिए योगा फायदेमंद होता है क्योंकि यह धीरे-धीरे वजन कम करता है।

2. योगा करने से जोड़ों का दर्द कम करता है। साथ ही शरीर के लचीलेपन को भी बढ़ाता है। योगा ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर करता है जिससे प्यूरिन्स जोड़ों में जाकर एकत्रित नहीं होती है और दर्द का कारण नहीं बनती है।

3. योगा आपके शरीर को यूरिक एसिड के कारण होने वाली समस्याओं से बचाता है।

काफी कुछ योग आसन हैं जो नियमित रूप से अभ्यास करने पर ना केवल यूरिक एसिड को कम करने में मदद कर सकते हैं बल्कि यूरिक एसिड क्रिस्टल को जोड़ों में जमा होने से भी रोकते हैं, इसे हटाते हैं और दर्द को रोकने में मदद करते हैं। यह आसन हैं: भुजंगासन

यूरिक एसिड के लिए भुजंगासन फायदेमंद होता है-

इस आसन को करने के लिए आप योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद दोनों हाथों को आगे की तरफ करते हुए सिर को पीछे की तरफ धीरे-धीरे ले जाएं। अब हाथों पर हल्का दबाव देते हुए पूरे शरीर को थोड़ी देर ऊपर की तरफ रखें। इस अवस्था में लगभग 60 सेकंड तक बनें रहें।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Navratri 2019: Diabetes वालों के लिए नवरात्रि व्रत रखना है बड़ा खतरा, डॉक्टर्स ने किया अलर्ट
2 Diabetes prevention: वजन कम करने के अलावा और भी कई उपायों की मदद से डायबिटीज को किया जा सकता है कंट्रोल
3 Dengue fever: डेंगू होने पर क्या सच में पपीते के पत्ते का जूस फायदेमंद है? जानिए एक्सपर्ट की राय