Blood Sugar कंट्रोल करने में रामबाण मानी जाती है ये चीज, ऐसे करें उपयोग

How To Control Blood Sugar: ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए लोगों द्वारा दवाइयों के साथ-साथ कई घरेलू नुस्खे भी अपनाएं जाते हैं।

control blood sugar, blood sugar level, blood sugar, aloe vera juice, aloe vera, diabetes, एलोवेरा, घृतकुमारी, ग्वारपाठा, डायबिटीज, ब्लड शुगर
एलोवेरा कड़वा जरूर होता है लेकिन काफी फायदेमंद भी होता है। (Photo-File)

आजकल हर कोई डायबिटीज (Blood Sugar) समस्या से परेशान है, ऐसे में हर कोई इससे छुटकारा पाने के लिए कुछ न कुछ उपाय करता रहता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में सबसे ज्यादा डायबिटीज कम उम्र के लोगों में पाया जाता है। बदलते परिवेश और खान पान के चलते कम उम्र के लोग इसके शिकार हो रहे हैं। डायबिटीज होने का मुख्य कारण मानसिक तनाव, शारीरिक परिश्रम और बदलते जीवनशैली को माना गया है। इसलिए कहा जाता है कि व्यक्ति को अपनी लाइफस्टाइल के साथ- साथ अपने रोजमर्रा के खानपान पर भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। पीड़ित व्यक्तियों को भोजन करके समय इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि कुछ ऐसा न खाएं जिससे ब्लड शुगर आउट ऑफ कंट्रोल हो जाए और शरीर के बाकी अंगों पर उसका दुष्प्रभाव पड़े।

ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए लोगों द्वारा दवाइयों के साथ- साथ घरेलू नुस्खे भी अपनाएं जाते हैं। ऐसे ही एक घरेलू नुस्खा है जिसमें एलोवेरा को अपनी रोजमर्रा की डाइट में शामिल करके काफी हद तक डायबिटीज को नियंत्रित कर सकते हैं। आयुर्वेद में भी एलोवेरा का काफी महत्त्व बताया गया है। एलोवेरा को घृतकुमारी या ग्वारपाठा के नाम से भी जाना जाता है। इसकी उत्पत्ति संभवतः उत्तरी अफ्रीका में हुई है। हरे रंग में नागफनी (कैक्टस) की तरह दिखने वाले इस पौधे के फायदे हर किसी को पता हैं।

आइये जानते हैं डायबिटीज के मरीज इसका सेवन कैसे करके अपना ब्लड शुगर नियंत्रित कर सकते हैं

ब्लड शुगर में कैसे कारगर है एलोवेरा ?

एलोवेरा में एक तत्व पाया जाता है जिसका नाम है इमोडिन, जो शरीर में मौजूद शुगर यानी ग्लूकोज को कम करने में मदद करता है।

एलोवेरा में इंसुलिन के स्तर को संतुलित बनाएं रखने और डायबिटीज को खत्म करने के लिए भी आवश्यक तत्व पाए जाते हैं।

कैसे करें एलोवेरा का सेवन?

रोजाना सुबह खाली पेट एलोवेरा के जूस का सेवन करना चाहिए। इसकी मात्रा ज्यादा नहीं बल्कि थोड़ी सी होनी चाहिए। यदि इसका स्वाद आपको नहीं पसंद आता है तो इसमें थोड़ा सा आवंला का जूस भी मिला सकते हैं।

नीम के गुण से तो सभी वाकिफ हैं, ऐसे में एलोवेरा जूस में नीम की पत्तियों को पीसकर उसका रस मिलाकर पीने से भी काफी फायदा होता है। नीम के पत्तों में एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते हैं, जो खून में मौजूद शुगर की मात्रा को कम करने में मदद करता है।

करेला कड़वा जरूर होता है लेकिन काफी फायदेमंद भी होता है। एलोवेरा के जूस में करेले का रस मिलाकर पीने से ब्लड शुगर कंट्रोल हो सकता है। इसके साथ ही एलोवेरा के जूस को टेस्टी भी बनाया जा सकता है।

इसमें करेले का जूस, चुटकीभर नमक, नींबू और काली मिर्च मिलाकर खाना खाने से पहले पीने पर डायबिटीज हमेशा के लिए खत्म हो सकता है। अपने शुगर लेवल के हिसाब से अपने आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करके इसका सेवन करना शुरू कर सकते हैं।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
नवरात्र में कैसे करे रंगों का चुनाव?
अपडेट