ताज़ा खबर
 

बार-बार हो जा रहे हैं बेहोश, तो ना करें अनदेखा, पड़ सकता है भारी

Health News: बेहोशी कार्डियक कारणों से भी जुड़ा हुआ होता है। कई बार अचानक ब्लड प्रेशर गिरने से भी बेहोशी हो सकती है या फिर लगातार खड़े रहने से भी ऐसा हो सकता है।

जानिए किसको बेहोशी का अधिक खतरा है

बेहोशी को चिकित्सा की भाषा में ‘सिनकोप’ कहा जाता है और इसके कारण दिमाग में खून बनना रुक जाता है। यह स्थिति मरीज में गंभीरता और कभी-कभी अचानक मृत्यु का कारण बन सकती है। कभी-कभी सिनकोप अचानक हो जाता है। इसके पीछे कई लक्षण होते हैं जैसे- पसीना आना, कमजोरी, आंखों के आ-पास कालापन, पेट में मरोड़ पड़ना और छाती में कंपकंपी होना। इसके अलावा बेहोशी कार्डियक कारणों से भी जुड़ा हुआ होता है। कई बार अचानक ब्लड प्रेशर गिरने से भी बेहोशी हो सकती है या फिर लगातार खड़े रहने से भी ऐसा हो सकता है। बेहोशी के अन्य कारण हैं भावनात्मक दबाव , दर्द, अधिक थकान, डिहाईड्रेशन, खून की कमी या फिर गर्मी में ज्यादा देर खड़े रहना।

किसको है बेहोशी का अधिक खतरा? दिल की बीमारियों से पीड़ित लोगों में इसकी संभावना अधिक होती है या फिर जिनका हार्ट कमजोर होता है। आमतौर पर 30 फिसदी लोग अपने जीवन में कभी न कभी बेहोश जरूर होते हैं। अक्सर ऐसा ब्लड प्रेशर में बदलाव की वजह से होता है क्योंकि वह कई तरह के कार्डियक दवाएं लेते हैं।

मेदांता हॉस्पिटल में कार्डियोलॉजी, एलेक्ट्रोफिजियोलॉजी, पेसिंग एंड हर्ट फेल्योर डिपार्टमेंट के कंसल्टेंट डॉ अनिरुद्ध व्यास के मुताबिक, अक्सर बेहोशी का गलत निदान किया जाता है। ऐसा मान लिया जाता है कि ऐसा एपिलेप्सी या दौरे की वजह से हुआ है और मरीज की न्यूरोलॉजिकल जांच की जाती है। बेहोशी के कुछ मामलों में दीर्घकालिक परिणाम होते हैं, हालांकि कुछ मामलों में अगर सही निदान और इलाज न किया जाए तो स्थिति घातक हो सकती है।

क्या करें और क्या ना करें:
– बेहोशी के एपिसोड्स का रिकॉर्ड रखें, ऐसे हर एपिसोड की सही से जांच होना जरूरी है।
– अगर आपको लग रहा है कि आप बेहोशी जैसा महसूस कर रहे हैं तो सीधे लेट जाएं ताकि दिमाग को खून की आपूर्ति बेहतर हो सके।
– बुजुर्ग लोगों को खड़े होकर पेशाब नहीं करना चाहिए।
– बुजुर्गों को अचानक खड़ा नहीं होना चाहिए, अगर वे लेटे और बैठे हैं तो आराम से उठें।
– वे लोग जो कार्डियक दवाएं लेते हैं उन्हें नियमित रूप से अपने ब्लड प्रेशर पर निगरानी रखनी चाहिए।

लोगों को इस बारे में जागरुक बनाना जरूरी है कि बेहोशी क्यों जानलेवा हो सकती है। लोगों को इसके बारे में शिक्षित करना चाहिए, कि अगर वे किसी को बेहोश होते देखें तो क्या करें। ऐसे मामले में मरीज़ को बचाने के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। ऐसे मामले में मरीज को लेटा दें या जल्द से जल्द अस्पताल में भर्ती कराएं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ल्यूकेमिया नाम की बीमारी से हुई ऋषि कपूर की मौत, जानिए क्या हैं लक्षण, कारण और उपचार
2 इरफान खान की मौत हुई न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर के कारण, जानिए यह बीमारी कितना है खतरनाक?
3 Uric Acid के मरीज अपनी डाइट में शामिल करें बादाम, कंट्रोल करने में मिलेगी मदद