इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार साबित होता है आयुर्वेद, घर पर ऐसे बनाएं हर्बल पेस्ट

Ayurvedic Immunity Booster: तुलसी को प्राकृतिक इम्युनिटी बूस्टर माना जाता है जो शरीर को इंफेक्शन से दूर रखने में मददगार है

covid-19, corona, coronavirus, korona, immunityशरीर को बाहरी पैथोजेन से बचाने और इंफेक्शन के खतरे को कम करने में करी पत्ता मददगार है

Immunity Boosting Tips: कोरोना वायरस की दूसरी लहर से बचने के लिए हर कोई तमाम प्रयास कर रहा है। अब तो सरकार ने लोगों को घरों के अंदर भी मास्क पहनने की सलाह दे डाली है। संक्रमितों की संख्या में दिनों-दिन बढ़त के बीच घर पर स्वस्थ रहना बेहद जरूरी है। हेल्दी रहने के लिए इम्युनिटी का मजबूत होना अति आवश्यक है। रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में आयुर्वेद भी प्रभावी रूप से मददगार साबित होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ मानते हैं कि कुछ हर्ब्स और मसालों को डाइट में शामिल करने से इम्युनिटी बूस्ट होती है। आइए जानते हैं विस्तार से –

भारत को जड़ी-बूटियों और मसालों की धरती कहा जाता है जिसका इस्तेमाल आयुर्वेद में भरपूर होता है। सदियों से आयुर्वेद को स्वास्थ्य परेशानियों से निजात पाने के लिए उपयोग हो रहा है। ये न केवल असरदार है बल्कि इनसे साइड इफेक्ट का खतरा भी नहीं होता है।

कैसे तैयार करें मिश्रण: इस हर्बल पेस्ट को बनाने के लिए आपको करी पत्ता, तुलसी पत्ता और शहद की जरूरत होगी। करीब 10 करी के पत्ते और इतने ही मात्रा में तुलसी पत्ते लें, साथ ही एक चम्मच शहद लें। दोनों ही पत्तों को साथ में लेकर पीस लें और स्मूद पेस्ट बना लें। इसके बाद मिश्रण को कटोरे में निकालें और इसमें शहद मिलाएं। आप चाहें तो इसमें हल्दी के जड़ को कद्दूकस करके भी डाल सकते हैं। रोज सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।

करी पत्ता: इन हरे पत्तों में फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, कॉपर और विटामिन-ए, बी, बी2 और सी जैसे जरूरी पोषक तत्व होते हैं। साथ ही, इनमें कार्बजोल एल्कलॉयड्स पाए जाते हैं जो एंटी-डायबिटिक माने गए हैं। ये शरीर को बाहरी पैथोजेन से बचाते हैं और इंफेक्शन के खतरे को कम करते हैं। साथ ही, कैंसर, हृदय रोग और स्किन प्रॉब्लम्स को भी दूर रखते हैं।

तुलसी पत्ता: तुलसी को प्राकृतिक इम्युनिटी बूस्टर माना जाता है जो शरीर को इंफेक्शन से दूर रखने में मददगार है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, एंटी-फंगल गुण पाए जाते हैं जो सांस संबंधी संक्रमण को दूर रखने में सहायक हैं।

शहद: सर्दी-जुकाम के सबसे प्रभावी घरेलू उपायों में से एक शहद होता है। ये एंटी-ऑक्सीडेंट्स, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरपूर होते हैं जो गले में खराश की परेशानी को दूर करता है। साथ ही, म्यूकस के ब्रेक डाउन और गले में इरिटेशन को भी कम करता है।

Next Stories
1 इन नैचुरल ट्रिक्स से बढ़ाएं शरीर में ऑक्सीजन लेवल, जानिये
2 इस मौसम में डेंगू के कारण भी हो सकता है बुखार, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय
3 Diabetes रोगियों के लिए रामबाण है सत्तू, पर ज्यादा इस्तेमाल से हो सकता है नुकसान, जानें कितनी मात्रा में करें सेवन
यह पढ़ा क्या?
X