ताज़ा खबर
 

एलर्जी के कारण हो सकती है अस्थमा की परेशानी, जानिये अन्य कारण और लक्षण

अस्थमा या दमा होने के कई कारण हो सकते हैं जिसमें मुख्य है एलर्जी। ऐसे में अस्थमा के मरीजों को एलर्जी वाली चीजों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए और अपना खास ध्यान रखना चाहिए।

asthma symptoms, asthma treatment, asthma causesअस्थमा के मरीज रखें अपना खास ध्यान

अस्थमा एक गंभीर बिमारी है जो सांस की नली को प्रभावित करती है। इस बिमारी के कारण सांस की नली में सूजन आ जाती है जिसके कारण सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। आमतौर पर अस्थमा के लक्षणों में सांस का फूलना, सीने में दर्द होना, खांसी होना इत्यादि शामिल हैं। यह समस्या जुखाम, खांसी और कफ के दौरान अधिक हो जाती है क्योंकि कफ से सांस की नली प्रभावित होती है। अस्थमा या दमा होने के कई कारण हो सकते हैं जिसमें मुख्य है एलर्जी। ऐसे में अस्थमा के मरीजों को एलर्जी वाली चीजों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए और अपना खास ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं अस्थमा के अन्य कारण और लक्षण-

अस्थमा के कारण:
– अधिक एक्सरसाइज करना
– ज्यादा दवाईयों का सेवन करना
– एल्कोहल और धूम्रपान
– अनुवांशिकता
– वायु प्रदूषण
– अधिक धूल के संपर्क में आना
– ब्रोंकाइटिस और साइनसाइटिस में संक्रमण होना
– परफ्यूम के इस्तेमाल से
– तनाव या डर के कारण

अस्थमा के लक्षण:
– खांसी, जुकाम या सर्दी जैसी एलर्जी
– सीने में खिंचाव महसूस होना
– सांस लेने वक्त सांस में घरघराहट की आवाज आना
– बेचैनी महसूस होने लगना
– उल्टी या मिचली जैसा महसूस होना
– थकावट और आलस महसूस होना
– जोर-जोर से सांस लेना
– सांस फूलना या सांस लेने में परेशानी होना

अस्थमा के मरीजों को क्या नहीं खाना चाहिए? अगर किसी व्यक्ति को अस्थमा है, तो उसे दूध, अंडा, बादाम, मछ्ली इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि ये दमा की समस्या को बढ़ा सकता है और सांस की नली को प्रभावित कर सकता है।

अस्थमा के मरीजों को क्या खाना चाहिए? अस्थमा के मरीजों को अपनी डाइट का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। ऐसे में आप अपनी डाइट में गाजर और पालक शामिल कर सकते हैं। इनमें विटामिन्स और मिनरल्स उच्च मात्रा में मौजूद होते हैं जो अस्थमा में बहुत मदद करते हैं। अपने भोजन में अदरक, लहसुन, हल्दी और काली मिर्च जैसे मसालों को भी शामिल कर सकते हैं, ये अस्थमा से लड़ने में मदद करते हैं।

क्या अस्थमा के मरीजों को कॉफी पीना चाहिए? कॉफी में कैफीन अधिक मात्रा में मौजूद होता है जो अस्थमा के मरीजों के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। कैफीन के कारण सांस लेने में पेरशानी आ सकती है और फेफड़ों में सूजन भी आ सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Uric Acid: थायराइड के बढ़ने या कम होने से भी होती है यूरिक एसिड की समस्या, जानिये बचाव के उपाय
2 बरसात में बढ़ जाता है डेंगू और मलेरिया का खतरा, जानिये- इसके लक्षण और बचाव के तरीके
3 अर्थराइटिस से झटपट आराम दिलाती है हल्दी, जानिये इस्तेमाल करने का तरीका
यह पढ़ा क्या?
X