ताज़ा खबर
 

दांत दर्द से नहीं मिल रही राहत तो आजमाएं ये नुस्खे, मिलेगा आराम

कभी-कभी दांतो की जड़ें काफी ढीली हो जाती हैं। इस वजह से भी दांतों में असहनीय पीड़ा होती है।

दांतो की पीड़ा से बचने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे आजमाए जा सकते हैं

दांतो में दर्द होने के के कई कारण हो सकते हैं। कभी दांतों में कीड़े लग जाने की वजह से दर्द उठता है तो कभी मसूढ़ों में किसी तकलीफ की वजह से दांत दर्द करने लगते हैं। कभी-कभी दांतो की जड़ें काफी ढीली हो जाती हैं। इस वजह से भी दांतों में असहनीय पीड़ा होती है। ऐसी स्थिति में सही से ब्रश कर पाना काफी मुश्किल होता है और सांसों से बदबू आना भी शुरू हो जाता है। ऐसे में दांतो की पीड़ा से बचने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे आजमाए जा सकते हैं। आज हम आपको उन्हीं कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में बताने वाले हैं जिनके इस्तेमाल से दांतों की असहनीय पीड़ा से आराम पाया जा सकता है।

लौंग – लौंग दांत दर्द के इलाज में प्रयुक्त होने वाला एक पारंपरिक नुस्खा है। बहुत पुराने समय से दांतों की पीड़ा में इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है। जब भी कभी आपके दांतों में दर्द उठता है तो लौंग को अपने दांतो के बीच दबाकर रख लें। इसके अलावा लौंग के पाउडर या फिर उसके तेल का भी इस्तेमाल दांत दर्द से राहत पाने के लिए किया जा सकता है।

लहसुन – लहसुन भी दांत दर्द की उत्तम औषधि है। इसमें एंटी-बायोटिक गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। लहसुन की कुछ कलियों के कूटकर उसमें थोड़ी मात्रा में नमक या फिर काली मिर्च मिलाकर दर्द वाली जगह पर लगाया जाए तो इससे बहुत आराम मिलता है। इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि लहसुन को ठीक से कुचलकर ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए न कि काटकर। ऐसा इसलिए क्योंकि कुचलने पर ही लहसुन से तेल का स्त्राव होता है।

नमक पानी – गर्म पानी में नमक मिला देने से यह प्राकृतिक एंटीसेप्टिक माउथवाश की तरह व्यवहार करता है। नमक और पानी के इस घोल से कुल्ला करने पर दांत दर्द से काफी राहत मिलती है। इसके लिए जरूरी है कि घोल को थूकने से पहले कम से कम 30 सेकंड तक मुंह में रखें।

अमरूद की पत्तियां – अमरूद की पत्तियां भी दांत-दर्द का बेहतर उपचार माना जाता है। अमरूद की ताजा कोमल पत्तियों को दर्द वाली जगह दबाकर रखने से काफी राहत मिलती है। इन पत्तियों को उबालकर उससे माउथ वाश करने से भी दांतो का दर्द काफी हद तक कम हो जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App