scorecardresearch

Anemia: सांस लेने में परेशानी हो सकती है एनीमिया का संकेत, ये घरेलू उपाय हैं काम के

अगर आप भी शरीर में कमजोरी और थकान महसूस कर रहे हैं तो ये एनीमिया के लक्षण हो सकते हैं।

Blood incrasing foods, Anaemia symptoms,home remedies to Anaemia,
आयुर्वेद के अनुसार तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से शरीर में आयरन की प्राप्ति होती है। photo-freepik

Blood incrasing foods: अगर सांसें जिंदगी हैं तो खून (Blood) जिंदगी को चलाने का सबसे बड़ा जरिया है। हमें जिंदा रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है। ऑक्सीजन वायु से सांस के द्वारा फेफड़े तक पहुंचती है। यह ऑक्सीजन तब तक बेकार है जब तक यह शरीर की हर कोशिकाओं तक पहुंच न जाए और इस ऑक्सीजन को पहुंचाने का महत्वपूर्ण काम खून में मौजूद लाल रक्त कोशिकाएं (RBC) करती हैं।

यानी खून ही फेफेड़े से ऑक्सीजन को लेकर शरीर के हर अंग तक पहुंचाता है। अगर खून न हो तो जिंदगी नहीं चल सकती, लेकिन अधिकांश लोगों में खून की कमी रहती है जिसके कारण उन्हें सांस तक लेने में परेशानी हो सकती है। खून की कमी को आमतौर पर एनीमिया माना जाता है। एक स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर में 5 लीटर खून की जरूरत होती है, अगर इससे कम है तो उस व्यक्ति को एनीमिया हो सकता है।

क्या है खून की कमी के लक्षण: लगातार थकान, स्किन पर पीलापन, सुस्ती, बालों का झड़ना, ऊर्जा की कमी, दिल की धड़कन बहुत तेज होना, सांस की तकलीफ होना शामिल है।

एनीमिया क्या है: खून में कमी को एनीमिया (anaemia ) कहते हैं। खून की कमी के पीछे की मुख्य वजह आयरन की कमी है, दरअसल, अस्थि मज्जा (Bone marrow) में हीमोग्लोबिन बनता है। इस प्रक्रिया के लिए आयरन की जरूरत पड़ती है। जब आयरन की कमी हो जाती है तो खून कम बनता है। भारत ऐसा देश है जहां एनीमिया पीड़ित महिलाओं और बच्चों की संख्या सबसे ज्यादा है।

अगर लंबे समय से एनीमिया है तो इससे कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती है। अगर आप भी शरीर में कमजोरी और थकान महसूस कर रहे हैं तो ये एनीमिया के लक्षण हो सकते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि शरीर में खून की कमी न हो, इसके लिए आयरन वाले पोषक तत्वों का सेवन करना चाहिए।

शरीर में खून को बढ़ाने के लिए इन चीजों को अपनी डाइट में शामिल करें।

चुकंदर और अनार -चुकंदर या अनार के जूस को ब्लड बिल्डर कहा जाता है, ये दोनों चीजें खून को शुद्ध करती हैं। चुकंदर को सलाद में भी खाया जा सकता है। अगर आप इसे मीठा बनाना चाहते हैं तो इसमें गुड़ मिलाकर पीएं, यह और भी फायदेमंद होगा। चुकंदर में फॉलिक एसिड और आयरन पाया जाता है यह ब्लड फ्लो को बढ़ाता है।

हरी पत्तीदार सब्जियां –हरी पत्तीदार सब्जियां, पालक, गोभी, सरसों का साग इत्यादि में क्लोरोफिल की मात्रा ज्यादा होती है। क्लोरोफिल आयरन का स्रोत है, यह हीमोग्लोबिन बढ़ाने का बेहतरीन स्रोत माना जाता है। इन सब्जियों में विटामिन बी 6, ए, सी, आयरन, कैल्शियम और फाइबर भरपूर होता है, इसलिए हरी पत्तीदार सब्जियों का सेवन रोजाना करना चाहिए।

तांबे के बर्तन का पानी –आयुर्वेद के अनुसार तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से शरीर में आयरन की प्राप्ति होती है। तांबे के बर्तन में रात भर पानी रखने से यह कई तरह के मिनरल्स से युक्त हो जाता है, इसलिए तांबे के बर्तन में रात भर पानी भर दें और इसे सुबह या दिन में पीएं।

किशमिश और खजूर –किशमिश और खजूर में पर्याप्त मात्रा में आयरन और विटामिन सी पाए जाते हैं, ये आयरन को बहुत जल्दी अवशोषित कर लेते हैं। किशमिश और खजूर का सेवन रोजाना ब्रेकफास्ट में करना चाहिए। दोपहर के भोजन के साथ भी इसे खाया जा सकता है।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट