ताज़ा खबर
 

एक गिलास जूस पीने से बढ़ सकता है कैंसर का खतरा: स्टडी

Risk of cancer: मेडिकल जर्नल बीएमजे में प्रकाशित अध्ययन के प्रमुख लेखक मैथिल्डे तौवियर ने कहा कि शोधों से यह पता चला है कि हम जो शुगरी ड्रिंक्स पीते हैं उसे कम करना हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होगा।

कैंसर का खतरा बढ़ने का कारण (Photo: Thinkstock Images)

Cancer risk: फ्रांस में किए गए एक नए अध्ययन में हाल ही में पता चला है कि 100 मिलीलीटर शुगरी ड्रिंक्स जैसे जूस या सोडा कैंसर होने की संभावना को बढ़ा सकता है। विशेष रूप से 18 प्रतिशत सारे कैंसर के खतरे और 22 प्रतिशत तक ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। रिसर्च में लगभग 1,00,000 से अधिक फ्रांसीसी वयस्कों के बारे में जांच की गई है जिससे इस बात का पता चला कि ये सारे लोग शुगरी ड्रिंक्स का सेवन करते थे। हाल ही के इस अध्ययन से यह बात चला है कि शुगरी ड्रिंक्स के कारण कई लोग समय से पहले मौत के शिकार हो जाते हैं।

जॉनसन ने यूके में साइंस मीडिया सेंटर को बताया, “कि शुगरी ड्रिंक्स पीने वाले लोगों को साथ-साथ ताजे फलों के जूस पीने वाले लोग में भी कैंसर का खतरा देखा गया है।” मेडिकल जर्नल बीएमजे में प्रकाशित अध्ययन के प्रमुख लेखक मैथिल्डे तौवियर ने कहा कि शोधों से यह पता चला है कि हम जो शुगरी ड्रिंक्स पीते हैं उसे कम करना हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होगा।

तौवियर ने कहा, “हमने जो देखा, वह यह था कि एसोसिएशन शुगरी ड्रिंक्स में चीनी मौजूद थी”। यह पेरिस में राष्ट्रीय स्वास्थ्य और चिकित्सा अनुसंधान संस्थान के पोषण महामारी विज्ञान अनुसंधान दल के अनुसंधान निदेशक हैं। तौवियर ने कहा कि उनकी टीम ने पाया कि चीनी इस कड़ी की मुख्य चालक थी। उसने कहा, “अधिक शुगरी ड्रिंक्स का सेवन मोटापा और वजन बढ़ाने का एक मुख्य कारण है” और “मोटापा अपने आप में कैंसर के लिए एक जोखिम कारक है।”

एक और संभावना यह है कि एडिटिव्स जैसे कि 4-मेथिलिमिडाज़ोल, जो उन ड्रिंक्स में पाया जाता है जिनमें कारमेल रंग होता है, जिसके कारण कैंसर का खतरा अधिक बढ़ जाता है। तौवियर ने सुझाव दिया कि लोगों को पब्लिक हेल्थ गाइडलाइन्स को फॉलो करना चाहिए जिसमें रोजाना एक गिलास जूस पीने की सलाह दी जाती है।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App