ताज़ा खबर
 

इन 6 फूड्स का सेवन दूर करता है हर यौन-समस्या, स्टेमिना बढ़ाने में भी है मददगार

जिन लोगों की यौन शक्ति यानी कि सेक्शुअल स्टेमिना कमजोर होता है, वे लोग अगर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें तो निश्चित रूप से उन्हें इससे काफी फायदा मिलेगा।

डाइट में इन फूड्स को शामिल कर हर तरह की यौन समस्या का इलाज किया जा सकता है।

अनहेल्दी डाइट, शारीरिक व्यायाम और लगातार बैठ कर काम करने वाली लाइफस्टाइल की वजह से लोगों की यौनशक्ति पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इस वजह से संबंधों में तनाव होना आम है। आजकल काफी मात्रा में पुरुषों में यौन समस्याओं से जुड़े मामले सामने आ रहे हैं। ये बात सच है कि इन मामलों के इलाज को लेकर लोगों की जागरूकता में पहले के मुकाबले काफी बढ़ी है लेकिन फिर भी अभी बहुत अधिक मात्रा में ऐसे लोग समाज में हैं जो इस तरह की समस्याओं के इलाज आदि को लेकर सहज नहीं होते। ऐसे लोग अपनी डाइट में फेरबदल कर हर तरह की यौन समस्या का इलाज कर सकते हैं। जिन लोगों की यौन शक्ति यानी कि सेक्शुअल स्टेमिना कमजोर होता है, वे लोग अगर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें तो निश्चित रूप से उन्हें इससे काफी फायदा मिलेगा।

तरबूज – तरबूज में एल-साइट्रुलिन की काफी मात्रा पाई जाती है। यह इरेक्शन को सख्त करने में मदद करती है। इसकी वजह से पेनिस में रक्त संचार की मात्रा बढ़ती है।

केला – केले में कार्बोहाइड्रेट भरपूर मात्रा में होता है। साथ ही साथ इसमें पोटैशियम भी काफी मात्रा में पाया जाता है जल्दी स्खलित होने की समस्या से निजात दिलाता है।

नट्स – पिस्ता, मूंगफली और अखरोट जैसे नट्स एल-आर्जिनिन के भरपूर स्रोत होते हैं। इसके अलावा इनमें मैग्नीशियम भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। यह एनर्जी लेवल बढ़ाने में मददगार है। साथ ही शरीर के सभी अंगों में खून के प्रवाह को दुरुस्त रखता है।

मछली – मछली और अन्य सी-फूड्स में विटामिन बी 12 काफी मात्रा में पाया जाता है। यह दिमागी कार्यप्रणाली को दुरुस्त करने के साथ-साथ एनर्जी लेवल को बढ़ाने में भी मदद करता है। यह नसों, दिमाग और रेड ब्लड सेल्स को स्वस्थ रखने में सहायक होता है।

डार्क चॉकलेट्स – इरेक्टाइल संबंधी समस्याएं तनाव और चिंता की वजह से बढ़ती हैं। ऐसे में डार्क चॉकलेट्स तनाव और चिंता को दूर करने का काम करता है और पेनिस को स्वस्थ रखता है।

सेब – सेब में काफी मात्रा में क्वर्सिटिन पाया जाता है जो एक तरह का एंटी-ऑक्सीडेंट फ्लेवोनॉयड होता है। यह शारीरिक संबंध बनाने के दौरान एंड्योरेंस को बूस्ट करने का काम करता है। जिससे आप अधिक समय तक शारीरिक संबंध बना पाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App