ताज़ा खबर
 

ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक के खतरे को कम करने में मददगार हो सकता है 5 मिनट का ब्रीदिंग एक्सरसाइज, जानें

Hypertension Remedies: सामान्य व्यक्ति की तुलना में हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी अधिक होती है

अध्ययन के अनुसार 5 मिनट इस ब्रीदिंग एक्सरसाइज को करने से सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर 9 पॉइंट तक कम हो सकता है

Tips for High Blood Pressure Patients: बताया जाता है कि दुनिया भर में हाइपरटेंशन के करीब 1.13 बिलियन मरीज हैं। वहीं, सरकारी आंकड़ों के अनुसार भारत की करीब 40 प्रतिशत शहरी आबादी हाइपरटेंशन की समस्या से ग्रस्त है। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि आज के समय में ब्लड प्रेशर की समस्या बहुत आम है। लेकिन अगर इसे गंभीरता से न लिया जाए तो ये हेल्थ इश्यू कार्डियोवास्कुलर डिजीज और हार्ट अटैक का कारण बन सकता है।

वर्तमान समय में दैनिक जरूरतों को पूरा करते हुए लोगों के पास इतना समय ही नहीं बचता है कि वो फिजिकल एक्सरसाइज कर सकें। विशेषज्ञ बताते हैं कि डॉक्टर्स द्वारा बताई गई दवाइयों के अलावा कई एक्सरसाइज भी हाई बीपी को कंट्रोल करने में मददगार होते हैं।

एक नई अध्ययन के अनुसार 5 मिनट ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से ब्लड प्रेशर और हार्ट को हेल्दी रखने में मदद करते हैं। इसे सप्ताह में 6 दिन करने की जरूरत है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन में छपे इस स्टडी के मुताबिक कई लाइफस्टाइल स्ट्रैजी की मदद से उम्र बढ़ने के साथ ब्लड प्रेशर नियंत्रित किया जा सकता है।

इंस्पिरेट्री मसल्स स्ट्रेंथ ट्रेनिंग: अध्ययन के अनुसार 5 मिनट इस ब्रीदिंग एक्सरसाइज को करने से सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर 9 पॉइंट तक कम हो सकता है। IMST को करीब 6 हफ्तों तक करने से दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है। बताया जाता है कि इस एक्सरसाइज को करने से एरोबिक एक्सरसाइज जितने लाभ हो सकते हैं। साथ ही, अध्ययन के मुताबिक 50 से अधिक उम्र के लोगों को ये करना चाहिए। इसके अलावा, माहवारी बंद होने के बाद भी ये व्यायाम करना फायदेमंद हो सकता है।

ये योगासन भी हो सकते हैं लाभकारी: सामान्य व्यक्ति की तुलना में हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी अधिक होती है। कई योगासनों को करने से भी ब्लड प्रेशर लेवल कंट्रोल में रहेगा। अधो-मुखश्वसनासन जिसे डाउनवर्ड फेसिंग डॉग एक्सरसाइज भी कहते हैं, ये उच्च रक्तचाप की समस्या पर निंयत्रण करने में मदद करता है।

त्रिकोणासन यानी ट्राई-एंगल पोज दिल की नाड़ियों को रिलैक्स महसूस कराता है जिससे पूरे शरीर में ब्लड फ्लो बेहतर तरीके से होता है और रक्तचाप नियंत्रित रहता है। इसके अलावा, उज्जायी प्रणायाम, शीतली प्राणायाम और शवासन जैसे योगाभ्यासों को करने से भी फायदा होगा।

Next Stories
1 शरीर से Uric Acid कम करने में मददगार हैं ये पांच प्राकृतिक तरीके, आप भी जानें
2 Blood Sugar बढ़ने से लोगों को हो सकती हैं ये 10 हेल्थ प्रॉब्लम्स, जानें कैसे करें जांच
3 पपीते के साथ भूलकर भी न करें इन चीजों का सेवन, फायदे की जगह हो सकता है नुकसान
ये पढ़ा क्या?
X