यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में हैं कारगर ये 5 जड़ी बूटियां, जोड़ों में दर्द से मिल सकता है छुटकारा

औषधीय गुणों से भरपूर पुनर्नवा काढ़ा शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को पेशाब के जरिए फ्लश आउट कर देता है, जिससे जोड़ों में दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है।

Health News, Uric Acid, High Uric Acid
यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्याएं होती हैं

वर्तमान समय में हाई यूरिक एसिड की परेशानी बेहद ही गंभीर बन चुकी है। बॉडी में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से गठिया की बीमारी भी हो सकती है। गाउट की यह स्थिति तब पैदा होती है जब यूरिक एसिड क्रिस्टल्स के रूप में टूटकर जोड़ों के बीच इक्ट्ठा हो जाता है। जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्या से निजात पाने के लिए यूरिक एसिड को काबू में रखना बेहद ही जरूरी है।

यूरिक एसिड शरीर के लिए एक वेस्ट प्रोडक्ट की तरह होता है, जो मछली, शराब, सी फूड और मीट आदि जैसे प्यूरीन युक्त चीजों के पचने के बाद प्रोड्यूस होता है। आमतौर पर किडनी यूरिक एसिड को फिल्टर करके शरीर से फ्लश आउट कर देती है, लेकिन जब बॉडी में इसकी अधिकता हो जाती है तो यह हमारे समग्र स्वास्थ्य को बुरी तरह से प्रभावित करता है।

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए हेल्थ एक्सपर्ट्स लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव जैसे एक्सरसाइज, अधिक पानी पीना और स्वस्थ भोजन करने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही आयुर्वेद में कुछ ऐसे उपाय भी हैं जो यूरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करने में फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

पुनर्नवा काढ़ा: औषधीय गुणों से भरपूर पुनर्नवा काढ़ा शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को पेशाब के जरिए फ्लश आउट कर देता है, जिससे जोड़ों में दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है।

मुस्ता: हाई यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए मुस्ता जड़ी-बूटी फायदेमंद साबित हो सकती है। इसके लिए मुस्ता के पाउडर को रात में पानी में भिगोकर रख दें। फिर सुबह उठकर इस पानी को उबाल लें और ठंडा होने के बाद इसका सेवन करें। इस नुस्खे को अपनाने से बॉडी में यूरिक एसिड का स्तर नियंत्रित रहता है।

वरुण चुर्ण: आप इस चूर्ण का लेप उस जोड़ पर लगा सकते हैं, जहां यूरिक एसिड के कारण दर्द हो रहा है। इससे आपको दर्द में राहत मिल सकती है।

काली किशमिश: रात के समय 10-15 काली किशमिश को भिगोकर रख दें। फिर सुबह उठकर इनका सेवन करें। नियमित तौर पर काली किशमिश खाने से बोन डेंसिटी बढ़ती है और गाउट का खतरा कम होता है।

शुंठी और हल्दी: शुंठी और हल्दी को बराबर मात्रा में मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें। फिर इस पेस्ट को दर्द वाले जोड़ पर लगाएं। इससे आपको आराम मिल सकता है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट