ताज़ा खबर
 

हाई ब्लड प्रेशर के मामलों में 41% मरीजों का गलत निदान होने का खतरा: स्टडी

मास्क्ड हाइपरटेंशन के मामले अनियंत्रित हो सकते हैं, जिससे हृदय, किडनी और मस्तिष्क की जटिलताओं का खतरा बढ़ सकता है, जो समय से पहले मृत्यु का कारण बन सकता है।

high blood pressure, high blood pressure diagnosed, hypertension, high blood pressure treatment, high blood pressure home remedies, high blood pressure causes, high blood pressure dietब्लड प्रेशर जांच (Representational Image)

एक अध्ययन के अनुसार, 41 प्रतिशत रोगियों में हाई ब्लड प्रेशर के मामलों में गलत तरीके से निदान होने का खतरा होता है। 19 प्रतिशत मामलों में, उत्तरदाताओं (मुंबई को छोड़कर) को व्हाइट-कोट हाइपरटेंसिव था जबकि 21 प्रतिशत में हाई ब्लड प्रेशर था। मास्क्ड हाइपरटेंशन एक घटना है जिसमें किसी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर पढ़ना डॉक्टर के कार्यालय में सामान्य है लेकिन घर पर ज्यादा है। व्हाइट-कोट हाइपरटेंशन को एक ऐसी स्थिति के रूप में परिभाषित किया गया है, जिसमें लोग केवल एक क्लिनिकल सेटिंग में ब्लड प्रेशर को सामान्य सीमा से ऊपर प्रदर्शित करते हैं।

व्हाइट-कोट हाइपरटेन्सिव जिनका गलत निदान होता है और जिन्हें एंटी-हाइपरटेंसन ड्रग्स पर रखा जाता है, उन्हें अनावश्यक दवा लेनी पड़ती है। दूसरी ओर, मास्क्ड हाइपरटेंशन के मामले अनियंत्रित हो सकते हैं, जिससे हृदय, किडनी और मस्तिष्क की जटिलताओं का खतरा बढ़ सकता है, जो समय से पहले मृत्यु का कारण बन सकता है।

अध्ययन में राज्य के 2,026 प्रतिभागी शामिल थे जिसमें 1,288 पुरुष और 738 महिलाएं थीं। बुधवार को मीडियाकर्मियों से बात करते हुए, हृदय रोग विशेषज्ञ और आईएचएस के प्रमुख जांचकर्ता डॉ. उपेंद्र कौल ने कहा, ”इंडिया हार्ट स्टडी भारत में हाई ब्लड प्रेशर के बेहतर नैदानिक प्रबंधन की आवश्यकता की ओर इशारा करता है। यह इंडिया-स्पेसिफिक डेटा है और इसे भारतीयों में हाई ब्लड प्रेशर के निदान के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं को आकार देने में मदद करनी चाहिए।”

जांचकर्ताओं ने नौ महीनों में 15 राज्यों के 1,233 डॉक्टरों के माध्यम से 18,918 प्रतिभागियों के ब्लड प्रेशर की जांच की। प्रतिभागियों के ब्लड प्रेशर की निगरानी लगातार सात दिनों तक दिन में चार बार घर पर की जाती थी। अध्ययन में यह भी पाया गया कि भारतीयों की दिल की धड़कन की दर औसतन 80 बीट प्रति मिनट है, जो वांछित बीट्स प्रति मिनट की दर से अधिक है। एक और खोज यह है कि अन्य देशों के विपरीत, भारतीयों में सुबह की तुलना में शाम को हाई ब्लड प्रेशर होता है, जिसे डॉक्टरों द्वारा दी गई दवा की खुराक से कम किया जा सकता है।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 PM Modi Fit India Movement 2019: पीएम मोदी ने 10000 स्टेप्स चलने को लेकर क्यों किया कमेंट, जानिए फॉलो करने के फायदे
2 Kalonji benefits: कलौंजी ब्लड शुगर से लेकर लीवर डिटॉक्स करने तक करता है मदद, जानिए अन्य फायदे
3 डायबिटीज की समस्या को कंट्रोल कर सकता है तेज पत्ता, जरूर करें डाइट में शामिल
ये पढ़ा क्या?
X