मोदी जी, योगी जी तुमसे न हो पाएगा- ‘अब्बा जान’ वाले बयान पर भड़कीं कांग्रेस नेता, कहा, ‘CM विभाजक नहीं अभिभावक होता है’

कांग्रेस की प्रवक्ता रागिनी नायक ने भी योगी आदित्यनाथ पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री राज्य का अभिभावक होता है विभाजक नहीं।

yogi adityanath, ragini nayak, narendra modi
योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर विवाद कम नहीं हो रहा (Photo-File)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘अब्बा जान’ वाले बयान पर विवाद खत्म होता नहीं दिख रहा। समाजवादी पार्टी, टीएमसी, कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने उनके बयान की आलोचना की है। कांग्रेस की प्रवक्ता रागिनी नायक ने भी योगी आदित्यनाथ पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री राज्य का अभिभावक होता है, विभाजक नहीं।

आज तक के डिबेट शो, ‘हल्ला बोल’ में रागिनी नायक के कहा, ‘राजधर्म का पाठ जो अटल बिहारी जी ने नरेंद्र मोदी को पढ़ाया था, जब वो गुजरात के मुख्यमंत्री थे, आज उसी राजधर्म के पाठ की सबसे ज्यादा जरूरत तथाकथित उत्तर प्रदेश के ओजस्वी मुख्यमंत्री को है जिससे उन्हें समझ में आ जाए कि मुख्यमंत्री अभिभावक होता है, विभाजक नहीं। वो वैमस्य और नफरत को फैलाने वाला कभी नहीं बन सकता।’

रागिनी नायक ने आगे कहा, ‘दुर्भाग्य की बात ये है कि ये भूख पर भी धर्म की राजनीति कर रहे हैं। राशन पर सवाल था, दुख की बात है कि ये मां-बाप पर भी धर्म को राजनीति कर रहे हैं। और अगर राशन, भूख की बात आती है तो मैं बता दूं कि इस देश के गरीब लोगों को पांच किलो अनाज का मोहताज बनाने वाले का नाम नरेंद्र मोदी है। 23 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा के नीचे ले जाने वाले का नाम नरेंद्र मोदी है।’

रागिनी नायक ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए उत्तर प्रदेश के विकास पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा, ‘भाजपा के प्रवक्ता कहते हैं कि सड़कें बहुत अच्छी हैं और मोदी जी कहते हैं कि नेशनल हाईवे तो हम बेच रहे हैं। तो मैं मोदी, योगी और भाजपा के प्रवक्ता से कहना चाहती हूं कि तुमसे ना हो पाएगा… मोदी जी, योगी जी, भाजपा… तुमसे ना हो पाएगा।’

बता दें, रविवार को योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव पर अप्रत्यक्ष रूप से टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि 2017 से पहले राज्य के लोगों को राशन नहीं मिलता था जैसा अब मिल रहा है। क्योंकि तब अब्बा जान कहे जाने वाले लोग राशन पचाते थे।

उनकी इस टिप्पणी पर बिहार के मुजफ्फरपुर में कोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई हैं। योगी आदित्यनाथ पर मुस्लिम समुदाय के भावनाओं को आहत करने को लेकर मामला दर्ज करने की मांग की गई है।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।